भारत में निर्मित कोरोना वैक्सीन कोवेक्सिन के पहले और दुसरे चरण को मानव परिक्षण के लिए मिली मंजूरी

[URIS id=45547]

भारत में निर्मित कोरोना वैक्सीन कोवेक्सिन के पहले और दुसरे चरण को मानव परिक्षण के लिए मिली मंजूरी

NEWSTODAYJ पिछले दिनों ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ इंडिया ने कोरोना वायरस की दो स्वदेशी वैक्सीन को ह्यूमन ट्रायल के लिए मंजूरी दी थीl अब विज्ञान और प्रौद्योगिकी मंत्रालय ने कहा है को दो वैक्सीन को ह्यूमन ट्रायल के लिए मंजूरी मिलना कोविड-19 महामारी के ‘अंत की शुरुआत’ हैl बता दें कि जिन दो वैक्सीन को फिलहाल मंजूरी मिली है, वो है कोवेक्सिन और जाइकोव-डीl India's first COVID-19 vaccine candidate COVAXIN gets approval for ...
मंत्रालय ने कहा कि दो प्रमुख वैक्सीन AZD1222 (ब्रिटिश फर्म एस्ट्राजेनेका और ऑक्सफोर्ड) और MRNA-1273 (अमेरिकी कंपनी मोर्डेना) के निर्माताओं ने भी भारतीय कंपनियों के साथ उत्पादन समझौतों पर हस्ताक्षर किए हैंl उन्होंने आगे लिखा है ‘नोवेल कोरोना वायरस का टीका दुनियाभर में कहीं भी बन सकता है, लेकिन बिना भारतीय निर्माताओं के सहयोग से ये संभव नहीं हैl दुनिया भर में 140 से से ज्यादा वैक्सीन पर काम चल रहा हैl इनमें से 11 वैक्सीन ह्यूमन ट्रायल के स्तर पर पहुंच गया हैl भारत बायोटेक द्वारा विकसित की जा रही भारत की पहली COVID-19 वैक्सीन – COVAXIN ™, के मानव क्लीनिकल परीक्षण के पहले और दूसरे चरण के लिए डीजीसीआई की अनुमति मिल गई हैl

ये भी पढ़े…

राहुल गांधी ने फिर PM केयर्स फंड पर सरकार को घेरा- वेंटिलेटर खरीद में धांधली का लगाया आरोप  

भारत में कोविड-19 वैक्सीन का निर्माण करने वाली ये कंपनी ICMR और नेशनल इंस्टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी के सहयोग से ये टीका तैयार करने के प्रयासों में लगी हैl अहमदाबाद की कंपनी जाइडस कैडिला हेल्थ केयर लिमिटेड को ड्रग कंट्रोलर जनरल ऑफ़ इंडिया ने वैक्सीन के फेज-1 और फेज-2 के ह्यूमन ट्रायल की इजाजत दे दी हैl  कहा जा रहा है कि इस क्लीनिकल ट्रायल को पूरा करने में करीब 3 महीने का वक्त लगेगाl

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here