• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

बीएसएनएल मजदूर ने इलाज के अभाव में तोड़ा दम। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर…….

1 min read

रांची।

बीएसएनएल मजदूर ने इलाज के अभाव में तोड़ा दम। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर…….

रांची। इलाज के अभाव में एक व्यक्ति की मौत हो गयी। यह घटना प्रधानमंत्री के आयुष्मान भारत योजना को ठेंगा दिखा रही है। बताते चलें कि लाख दावें के बाद भी सरकारी अस्पतालों में लोगों को सही तरीके से इलाज नहीं हो पा रहा है। सरकार द्वारा लागू कई योजनाओं के बावजूद गरीबों को सही समय पर इलाज नहीं मिल पा रहा है।वहीं घटना के अनुसार बताते चलें कि बीएसएनएल के बूटी मोड़ स्थित सर्किल में ठेका मजदूर के रूप में कार्यरत रामानुज प्रसाद की मौत इलाज के अभाव में हो गई। बता दें कि बीएसएनएल के ठेका मजदूरों को महीनों से वेतन नहीं मिला है। जिसको लेकर बीएसएनएल ठेका मजदूर अनिश्चितकालीन हड़ताल पर है। जहां मजदूरों को महीनों से वेतन नहीं मिल रहा था वही कर्मचारी राज्य बीमा निगम के तहत किस्ते भी जमा नहीं हुई है।

ये भी पढ़ें- विश्वकर्मा पूजा के अवसर पर भक्ति जागरण कार्यक्रम का होगा आयोजन। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर…….

ऐसे में ईएसआइ अस्पताल नामकुम ने मजदूर का इलाज करने को लेकर हाथ खड़े कर दिए। वह कुछ दिनों तक किसी प्रकार निजी अस्पताल में इलाजरत रहे लेकिन आर्थिक कमजोरी ने उन्हें वहां से भी बाहर कर दिया। बहरहाल इलाज करने हेतु उनका 18 वर्षीय बेटा समेत सभी मजदूरों ने मिलकर इस मामले को मुख्य महाप्रबंधक केके ठाकुर तथा उपमंडल अभियंता आलोक कुमार के समक्ष भी रखा लेकिन वहां भी मजदूर का हाथ खाली हीं रहा। वहीं बता दें कि आर्थिक अभाव के कारण मजदूर का इलाज संभव न हो सका। लिहाजा उसकी मौत हो गई। आपको बताते चलें कि अब उसके कफन के लिए भी पैसे का जुगाड़ चल रहा है। सभी सहकर्मियों को संदेश भेज कर मदद करने के लिए अपील की जा रही है। बता दें कि रामानुज प्रसाद गठिया एवं इन्फेक्शन जैसी गंभीर बीमारियों से जूझ रहे थे। बीएसएनएल में ठेका मजदूर के तौर पर व नालियों और ड्रेनेज में लगे केबल के मरम्मती एवम् रखरखाव का कार्य किया करते थे। बरियातू रोड में स्थित सभी अंडरग्राउंड केबलों का कार्यभार भी इन्हें सौंपा जाता था।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें