पुलिस द्वारा इंसानियत भरी तस्वीर 40 दिन से पैदल चल रही महिला को पति से मिलवाया

पुलिस द्वारा इंसानियत भरी तस्वीर 40 दिन से पैदल चल रही महिला को पति से मिलवाया

NEWS TODAY हजारीबाग  कोरोना संकट काल में कोरोना योद्धा रूपी पुलिस लगातार अपने प्रयासों से इस कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में हमलोगों के आगे खड़ी हैl इसी क्रम में पुलिस के द्वारा इंसानियत भरी तस्वीर देखने को मिली जब पारिवारिक झगड़े और गलत ट्रेन पर चढ़ने के कारण 35 वर्षीय एक महिला को जीटी रोड पर 40 दिन तक चलने पर मजबूर होना पड़ा जिसके बाद पुलिस ने उसे बिहार में उसके पति से मिलवायाl

ये भी पढ़े..

झारखंड का सबसे बड़ा हॉट स्पॉट क्षेत्र हिंदपीढ़ी में CRPF के जवानों के साथ मारपीट की घटना

खबर की माने तो भागलपुर में साबो (नाम परिवर्तित) की ससुराल है जहां से वह 22 मार्च को एक मामूली पारिवारिक झगड़े के बाद घर छोड़ कर निकल गईl घर से निकलने के बाद साबो अपनी रिश्तेदार के यहां जाने के वास्ते बांका की ट्रेन पकड़ने के लिए रेलवे स्टेशन गई. लेकिन साबो गलत ट्रेन में चढ़ गई और बांका की बजाय उत्तर प्रदेश के कानपुर पहुंच गई. सिन्हा ने कहा कि साबो के पास घर लौटने के लिए पैसे नहीं थे. लोगों ने उससे कहा कि देशव्यापी लॉकडाउन के कारण उसे कोई साधन नहीं मिलेगा इसलिए वह जीटी रोड से पैदल चली जाए.

अधिकारी ने कहा कि साबो ने घर वापस जाने के लिए अपनी यात्रा शुरू की और चलते-चलते चार मई को हजारीबाग जिले में एक अंतर-राज्यीय जांच चौकी के पास पहुंचते ही बीमार पड़ गई. जिला समाज कल्याण अधिकारी ने कहा कि कुछ पुलिस कर्मियों ने महिला को बेहोशी की हालत में गिरा हुआ पाया जिसके बाद क्षेत्राधिकारी शिवम गुप्ता ने महिला को हजारीबाग सदर के महेश्वर में स्थित एक पुनर्वास केंद्र में भेजा जहां महिला का उपचार किया गया और उसे खाना खिलाया गया.

 

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here