पायल रोहतगी शिवाजी की जाति का सवाल उठा कर संकट में फंसी, विवाद बढ़ा तो मांगी माफी। पढ़ें पूरी खबर………

नई दिल्ली।

पायल रोहतगी शिवाजी की जाति का सवाल उठा कर संकट में फंसी, विवाद बढ़ा तो मांगी माफी। पढ़ें पूरी खबर………

Related imageनई दिल्ली। महान समाज सुधारक राजा राममोहन रॉय पर हमला बोलने वालीं और सती प्रथा पर विवादित बयान देकर सुर्ख़ियों में आई अभिनेत्री पायल रोहतगी अब छत्रपति शिवाजी महाराज को लेकर एक नए विवाद में फंस गई हैं। छत्रपति शिवाजी महाराज पर पायल रोहतगी ने विवादित बयान दिया है। हालांकि सोशल मीडिया पर इस ट्वीट के लिए पायल को इतने नेगेटिव कमेंट्स मिलें हैं कि उन्हें अपना ट्वीट ही डिलीट करना पड़ा और माफी मांगनी पड़ी।

दरअसल, पायल ने अपने ट्वीट में लिखा था छत्रपति शिवाजी महाराज शूद्र वर्ण में पैदा हुए थे और उनका परिवार किसानों का परिवार था। एक पवित्र समारोह और शादी के बाद वे क्षत्रिय बन गए थे, ताकि उन्हें राजा बनाया जा सके। इस उदाहरण से उन्होंने यह बताने की कोशिश की कि एक वर्ण से दूसरे वर्ण में जाया जा सकता है। यानी यहां जाति व्यवस्था इतने जटिल रूप में मौजूद नहीं है?

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

पायल ने अगले ट्वीट में लिखा-किसानों के परिवार या शूद्र वर्ण का होना कोई गुनाह नहीं है। कुछ लोग यह भी कहते हैं कि शिवाजी महाराज क्षत्रिय थे, वह भी ठीक हैं। लेकिन हिंदू भारतीयों को अपने राजाओं के बारे में सही तथ्य पता होने चाहिए। आखिर महाराष्ट्र में मराठों को रिजर्वेशन क्यों दिया जा रहा है? इस ट्वीट के बाद पायल को लोगों की जबरदस्त नकारात्मक प्रतिक्रियाएं मिलीं। Related image
उन्होंने ये देखते हुए अपने ट्वीट्स के लिए माफी मांगी और वीडियो अपलोड करते हुए कहा कि मेरे एक सीधे से सवाल को हेट स्पीच में तब्दील कर दिया गया। मैं भी महान हिंदू राजा की पूजा करती हूं। मैं कुछ पढ़ रही थी और मुझे कुछ जानकारियां मिली तो मुझे लगा कि मैं इसे लोगों के साथ साझा करूं, लेकिन मुझे लगता है कि ट्विटर पर सभी बिना नाम के ट्रोल्स बैठे हुए हैं। पायल ने कहा कि मैं उन सभी लोगों से हाथ जोड़कर माफी मांगती हूं जिन्हें ये लगा कि मैं उनके महाराज के खिलाफ गलत बयानबाजी कर रही हूं। ये साफ है कि मेरे पास एक सवाल पूछने का भी हक नहीं है क्योंकि लोगों द्वारा इसे गलत सेंस में लिया जाता है।

उन्होंने कहा आज भी शिवाजी महाराज को कई लोगों द्वारा पूजा जाता है। हम उनके खिलाफ किसी भी तरह की नकारात्मक बयानबाजी को बर्दाश्त नहीं करेंगे। पायल ने इससे पहले राजा राममोहन रॉय को बदनाम करने की कोशिश की थी, सती प्रथा का समर्थन किया था और अब उन्होंने शिवाजी महाराज को शूद्र जाति का बताया है।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here