पंचायत सचिवालय स्वयंसेवक संघ का मुख्य तीन सुत्री मांग को लेकर झारखंड सरकार के खिलाफ कर सकते है आंदोलन-शुभम झा

पंचायत सचिवालय स्वयंसेवक संघ का मुख्य तीन सुत्री मांग को लेकर झारखंड सरकार के खिलाफ कर सकते है आंदोलन-शुभम झा

संवाददाता-बबलु कुमार
NEWSTODAYJ:बोकारो/कसमार। रविवार को पंचायत स्वयंसेवक संघ कसमार के प्रखंड सचिव मिथिलेश कुमार महतो ने बताया कि झारखंड की सत्ता रूढ़ पार्टियों ने विधानसभा चुनाव के वक्त चुनावी घोषणा में यह वादा किया था कि झारखंड के सभी संविदा कर्मी जैसे:- पंचायत स्वयंसेवक, रोजगार सेवक, पारा शिक्षक, कृषक मित्र, रसोईया, संयोजीका, कंप्यूटर ऑपरेटर इत्यादि को स्थाई किया जाएगा परंतु अफसोस अब झारखंड के सभी संविदा कर्मी ठगा महसूस कर रहे हैं। वर्तमान सरकार अपने चुनावी घोषणा के प्रति वफादार नही दिख रही है। वही मीडिया प्रभारी शुभम झा ने कहा कि हम लोगों की मांग को सरकार अगर अविलंब पूरा नहीं करती है तो लॉकडाउन की समाप्ति के उपरांत झारखंड राज्य में सभी संविदा कर्मियों के संगठन झारखंड सरकार के खिलाफ आंदोलन करने के लिए बाध्य होंगे।

यह भी पढ़े।

लालूडीह गांव में कोरोना पॉजिटिव मिलने पर:हरिहरपुर थाना क्षेत्र के लालूडीह गांव पहुंचे डीसी एसएसपी एसडीएम

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

आज अपनी मांगों के समर्थन में प्रखंड अध्यक्ष निर्मल महतो, हेमंत कुमार महतो, विवेक शर्मा, दीपक महतो, संजू कुमारी, शाहीना प्रवीण, दिलीप कुमार महतो, मोहन कुमार, सुधा कुमारी, अली इमाम, मेघनाथ गोस्वामी, लव कुश रजवार, ब्रजेश कुमार महतो, मिथुन महतो, मिन्टी सिन्हा, रुपलाल महतो, वीणा कुमारी, आशीष कुमार, संदीप कुमार, त्रिलोचन महतो इत्यादि पंचायत स्वयंसेवकों ने भी अपनी तीन सुत्री मांगों को लेकर अपने अपने घरों में रह कर भूख हड़ताल कर सरकार का ध्यान आकृष्ट कराएं।

क्या है पंचायत सचिवालय स्वयंसेवक संघ का मुख्य तीन सुत्री मांग:-

(1) पंचायत सचिवालय स्वयंसेवक के सदस्यों को सेवा स्थाई (नियमित )किया जाए।
(2) पंचायत स्वयंसेवकों को मिलने वाला प्रोत्साहन राशि को हटाकर उचित मानदेय दिया जाए।
(3) राज्य लेवल पर मॉनीटरिंग सेल का गठन किया जाए। ताकि स्वयंसेवकों की समस्या और मांग इसी सेल के द्वारा सुनिश्चित हो।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here