• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

नीतीश कुमार को लालू प्रसाद यादव ने महागठबंधन में शामिल होने का न्योता दिया। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर……

1 min read

पटना।

नीतीश कुमार को लालू प्रसाद यादव ने महागठबंधन में शामिल होने का न्योता दिया। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर……

पटना। भाजपा के साथ चल रही अनबन के बीच मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को लालू प्रसाद यादव ने महागठबंधन में शामिल होने का न्योता दिया है।Related image लोकसभा चुनाव में खाता खोलने में नाकाम रही लालू प्रसाद यादव की पार्टी राजद ने नीतीश कुमार को महागठबंधन में वापस आने का न्योता दिया है। नीतीश कुमार साल 2017 में महागठबंधन से अलग हो गए थे। यह औपचारिक न्योता राजद उपाध्यक्ष रघुवंश प्रसाद सिंह ने पटना में दिया। लालू यादव के करीबी समझे जाने वाले सिंह ने मीडिया से कहा कि अब फिर से एकजुट होने का समय आ गया है, क्योंकि भाजपा आने वाले दिनों में नीतीश कुमार का केवल “अपमान” करेगी।

बाद में पार्टी ने कहा कि यह अपील केवल नीतीश कुमार के लिए नहीं थी, बल्कि सभी गैर भाजपाई पार्टियों को साथ आना चाहिए।  मुख्यमंत्री की ओर से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। हालांकि, सोमवार को मुख्यमंत्री ने कहा था कि ‘एनडीए के साथ सब ठीक है’। मालूम हो कि लोकसभा चुनाव में बहुमत के साथ जीत के बाद भाजपा ने अपने सभी सहयोगी दलों को एक-एक मंत्री पद का ऑफर दिया है, लेकिन इसको लेकर नीतीश कुमार नाराज दिख रहे हैं।

नीतीश कुमार ने यह प्रस्ताव ठुकरा दिया था कहा कि जदयू सरकार का हिस्सा नहीं बनेगी। नीतीश की पार्टी को साल 2017 में भी मोदी सरकार का हिस्सा नहीं बनाया गया था, जब उन्होंने कांग्रेस और लालू यादव का साथ छोड़कर भाजपा से हाथ मिलाया था। इस बार उम्मीद थी कि उन्हें इसका फल मिलेगा।

विशेषकर तब जब लोकसभा चुनाव में उनकी पार्टी ने 17 में से 16 सीटों पर जीत हासिल की है। नीतीश कुमार ने मंत्रालय में सहयोगियों के लिए ‘आनुपातिक प्रतिनिधित्व’ के लिए जोर दिया था, लेकिन भाजपा ने मना कर दिया। भाजपा ने इस बार साल 2014 से भी ज्यादा सीटों के साथ जीत हासिल की है।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें