• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

निलंबन के खिलाफ मुख्यमंत्री तक लगाई माडा निरीक्षक ने गुहार

1 min read

यहाँ देखे वीडियो।

(धनबाद)

निलंबन के खिलाफ मुख्यमंत्री तक लगाई माडा निरीक्षक ने गुहार स्वच्छता पर्यवेक्षक का वसूली का दबाव बनाते हुए वीडियो भी किया वायरल….

धनबाद:–झामाडा धनबाद के निरसा पीएचसी इलाके से निलंबित किये गए प्रभारी स्वच्छता निरीक्षक विमलेश कुमार सिन्हा ने अपने निलंबन के खिलाफ सूबे के नगर विकाश विभाग और मुख्यमंत्री रघुवर दास को पत्र लिखकर अपने निलंबन को असंवैधानिक बताते हुए निलंबन मुक्त करने की मांग की है। साथ हीं निरसा पीएचसी इलाके में फिलवक्त कार्यरत झमाडा हेल्थ सुपरवाइजर इकरामुल हक पर गैर कानूनी गतिविधियों में लिप्त रहने का आरोप लगाते हुए एक वीडियो क्लिप जारी की हैजिसमे एक सख्श दुकानदारों पर खुद को पीएचसी का स्टाफ बताकर धौंस जमाते हुए,लाइसेंस रजिस्ट्रेशन के नाम पर मिठाई दुकानदारों को तय राशि से ज्यादा बताते हुए और सभी अफसरों में अपनी अच्छी पैठ की बात करते हुए दिख रहा है।मीडिया से बात करते हुए विमलेश कुमार सिन्हा ने कहा कि झामाडा एमडी के लिखित आदेश के बाद उन्होंने निरसा पीएससी इलाके में फूड सैंपल एकत्रित करने का कार्य अलग-अलग दुकानों में जाकर शुरू किया था, इसी बीच स्वच्छता पर्यवेक्षक के द्वारा उनके कार्य में बाधा डाला गया और साजिश के तहत उन्हें पैसे लेने के झूठे आरोप में फंसा दिया गया । बाद में जब उनसे विभाग के द्वारा शो कॉज किया गया तो उन्होंने अपना जवाब दिया। लेकिन,उनके जवाब को दरकिनार करते हुए विभाग ने उन्हें निलंबित कर दिया।
अब उन्होंने नगर विकास विभाग और मुख्यमंत्री रघुवर दास के दरबार में न्याय की गुहार लगाई है। साथ ही एक वीडियो भी उपलब्ध कराया है कि किस तरह से जिस व्यक्ति ने उसे बदनाम करने का प्रयास किया था वह स्वयं दुकानदारों को भयाक्रांत कर वसूली के कार्य में लगा हुआ है। लाइसेंस के लिए ₹100 की राशि लगती है उसके लिए ढाई हजार रुपए की मांग कर रहा है और ऊपर से नीचे तक के अफसरों में अपनी गहरी पैठ और सेटिंग साबित करने की कोशिश कर रहा है।जबकि झामाडा एमडी ने बताया कि उक्त प्रभारी स्वच्छता निरीक्षक के ऊपर वसूली का आरोप साबित हुआ था जिसके आलोक में उसे निलंबित कर दिया गया है। बावजूद अगर उसने किसी तरह की कोई शिकायत विभाग से की है तो उसकी जांच की जाएगी जांच में अगर वह निर्दोष साबित होते हैं तो नौकरी बचेगी अन्यथा विभागीय कार्रवाई की प्रक्रिया शुरू होगी।NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.