धनबाद: निजी विद्यालय (गैर मान्यता प्राप्त) में मासिक शुल्क नहीं आने से शिक्षक आत्महत्या करने पर हो रहे हैं मजबूर

[URIS id=45547]

धनबाद: निजी विद्यालय (गैर मान्यता प्राप्त) में मासिक शुल्क नहीं आने से शिक्षक आत्महत्या करने पर हो रहे हैं मजबूर

NEWSTODAYJ  धनबाद–  झारखंड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन ने जिला शिक्षा अधीक्षक धनबाद और उपायुक्त को एक ज्ञापन सौंपा जिसमें पिछले 4 माह से कोविड-19 कोरोनावायरस के चलते सभी शैक्षणिक संस्थानों को बंद रखा गया है जिसके कारण निजी विद्यालयों (गैर मान्यता प्राप्त )के शिक्षण शुल्क मासिक ट्यूशन फीस का भुगतान शून्य के बराबर है इस विकट परिस्थिति में भी गैर मान्यता प्राप्त जो बहुत ही कम फी में बच्चों को गुणवत्तापूर्ण शिक्षा देते हैं वैसे विद्यालय द्वारा छात्रों के भविष्य को देखते हुए ऑनलाइन क्लासेस /ई लर्निंग के माध्यम से ऑनलाइन शिक्षण की व्यवस्था उपलब्ध लगातार पिछले 4 माह से कराई जा रही हैl

स्कूली शिक्षा एवं साक्षरता विभाग झारखंड रांची के आदेशानुसार सभी नियमों को मानते हुए विद्यालय का संचालन किया जा रहा है परंतु फिर भी विद्यालय में अभिभावकों द्वारा मासिक ट्यूशन फीस जमा नहीं किया जा रहा है जिसके कारण शिक्षकों और कर्मचारियों को वेतन देने में परेशानी हो रही है

ये भी पढ़े…..

पेट्रोल-डीजल के मूल्यवृद्धि के खिलाफ कांग्रेस कमेटी ने पैदल मार्च करते हुए प्रखंड कार्यालय में सौंपा मांग पत्र

एसोसिएशन शिक्षा विभाग से अनुरोध करता है कि विभाग के तरफ से अपील वैसे अभिभावकों के लिए हो जो अभिभावक नौकरी करते हो सक्षम हो वह अपने बच्चों का मासिक ट्यूशन फीस जमा करें जिससे कि शिक्षकों और कर्मचारियों को वेतन दिया जा सके और देश के बड़े- स्तंभ के जो राष्ट्र के निर्माता है उन्हें आत्महत्या करने से बचाया जा सके क्योंकि धनबाद जिले के 2 शिक्षक एक बोरागढ़ दूसरा कार्मेल स्कूल धनबाद के पिछले दिनों आर्थिक तंगी की वजह से आत्महत्या कर चुके हैं।

वही जिला सचिव इरफान खान ने कहा है कि आज जो यह समस्या उत्पन्न हुई है वह शिक्षा मंत्री के गलत बयान के चलते शिक्षक आत्महत्या करने पर मजबूर हो रहे हैं क्योंकि पिछले दिनों स्कूली साक्षरता विभाग के द्वारा एक आदेश फीस से संबंधित पारित हुआ था जिसमें उन्होंने फीस लेने की तो बात कही थी परंतु साथ ही उन्होंने यह भी कहा था कि जो अभिभावक फीस जमा नहीं करते हैं उन्हें भी ऑनलाइन शिक्षा से कोई विद्यालय वंचित नहीं कर सकते है

ये भी पढ़े…..

कोरोना संक्रमण के ज्यादा फैलने के खतरे से इस बार नहीं होगी देवघर श्रावणी मेला का आयोजन

जिसके चलते जो सक्षम अभिभावक है वह भी हम जैसे छोटे विद्यालय जिसकी मासिक शुल्क बहुत कम होती है उसमें भी फीस जमा नहीं कर रहे हैं बहुत जल्द ही झारखंड प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन सभी शिक्षकों कर्मचारियों के हित की रक्षा के लिए मुख्यमंत्री से मिलकर एक ज्ञापन सौपेंगे और उन्हें पूरे राज्य में चार लाख शिक्षक और कर्मचारियों को आर्थिक तंगी के कारण आत्महत्या ना हो उससे अवगत कराया जायेगा।

ज्ञापन देने वालों में मुख्य रूप से जिला अध्यक्ष एसके सिन्हा गोपाल राय ,और सुधांशु शेखर, विशाल कुमार श्रीवास्तव, मोहम्मद शब्बीर अख्तर, बाघमारा से खगेश्वर महतो निमाई दत्ता बलियापुर से एस के श्रीवास्तव निरसा के अध्यक्ष रणजीत मिश्रा सचिव संजीव कुमार ,अरविंद चक्रवर्ती ,सुनील मिश्रा आदि उपस्थित थे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here