• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

द्विदिवसीय सर्वभौम शाकद्वीपीय ब्राह्मण महासंघ के सम्मेलन में दिखा एकता का परिचय

1 min read

(धनबाद)

द्विदिवसीय सर्वभौम शाकद्वीपीय ब्राह्मण महासंघ के सम्मेलन में दिखा एकता का परिचय….!

राममूर्ति पाठक !

धनबाद। न्यू टॉउन हॉल में  सार्वभौम शाकद्वीपीय ब्राह्मण महासंघ झारखंड के द्विदिवसीय राष्ट्रीय सम्मेलन की शुरुआत मंत्रोउच्चारण के साथ – साथ हुई। वही मंचासीन विशिष्ट अतिथि स्वामी शैलेन्द्रानंद सरस्वती मुख्य अतिथि कमलेश पुण्यार्क तथा पं.ज्योतींद्र नाथ, संरक्षक डॉ एमएम मिश्रा को साल ओढ़ा कर सम्मानित किया गया। इस अवसर पर मग बंधु पत्रिका का विमोचन किया गया।स्वर्गीय सीता राम उपाध्याय की पत्नी को सम्मानित किया गया।इस कार्यक्रम में सात प्रदेश के ब्राह्मणों का हुआ जुटान।

वही मुख्य अतिथि कमलेश पुण्यार्क ने कहा कि वर्तमान में हमारी पीढ़ी कैसे जिये इस पर विचार करने की जरूरत है।अपने मन से अहंकार को दूर करे और अपनी जाती का विरोध न करे।उन्होंने कहा कि साधु को जागना होगा, तभी देश और राष्ट्र बचेगा। कहा कि समाज की स्थित इतनी दयनिय है कि 60% लोग आज भी गरीबी का दंश झेल रहे है,औऱ कहा कि संगठन को मजबूत करें और एक दूसरे का सहयोग करे तभी विकास संभव है।उन्होंने सभी को संकल्प करवाया की अपनो का विरोध करना बंद करे और दहेज के विरोध करे। 

उन्होंने सामूहिक एकता को बढ़ाने और श्राद्ध भोजन जैसे कुरीति को दूर कर केवल दक्षिणा स्वीकार कर जीवन यापन करनेे की। कहां की ऐसा करने से हम पुनः 5000 वर्ष पूर्व के सूर्यांश को प्राप्त कर लेंगे।

विशिष्ट अतिथि श्री स्वामी शैलेन्द्रानंद सरस्वती कहा कि नेता और पंडित में बहुत मामले में समानता है । एक भाषण पिलाने को बेताब रहता है और दूसरा प्रवचन पिलाने को । भले ही भाषण किसी और ने लिखकर दिया हो, भले ही प्रवचन अभी हाल में ही कहीं सुना-पढ़ा हो, पर जल्दी से जल्दी किसी और को सुनाकर अपनी ज्ञान-गगरी को खाली कर लेना जरुरी ही नहीं अपरिहार्य समझता है ।

नेता सदा चौक खोजता है और पंडित चौकी । या कहें तो दोनों चौक-चौकी की जुगाड़ में रहते हैं । चौकी यानी आम से थोड़ी ऊँची वाली जगह, जहां कोई ‘खास’ उचक कर आसीन हो सके और अपने भीतर के गर्द-गुब्बारों को बाहर निकाल सके । भले ही उससे किसी का भला हो या बुरा । अब कहने वाला, भला कब सोचता है कि सुनने वाले पर क्या असर होगा उसकी बातों का । दरअसल असर-बेअसर तो सुनने वाले का ‘क्षेत्र’ है न – वो सुने, ना सुने । सुन कर वहीं छोड़ जाये, अथवा घसीट कर घर ले जाये । हालाकि ज्यादातर होता ये  है कि हम सुन भी लेते हैं, समेट भी लेते हैं, परन्तु घसीट कर घर तक ले जाने की ज़हमत नहीं पालते । रास्ते में मौका पाते ही किसी और के गले मढ़ देने का प्रयास करते हैं ।

सांस्कृतिक कार्यक्रम…….!

कलकत्ता से आई दीपानिता ने अपनी नृत्य से लोगो को मोहित किया।उच्ची उच्ची डगर पे कान्हा कथक नृत्य के आंगिक में यह नृत्य प्रस्तुत किया गया।गणेश वंदना बिंदु मिश्रा तथा तबला पंकज मिश्रा ने बांधी समा।

वही इस कार्यक्रम में संरक्षक एम एम मिश्रा, ब्रजबिहारी पाठक,प्रदेश अध्यक्ष दीपक उपाध्याय,संजीव मिश्रा,संतोष मिश्रा,मीडिया प्रभारी राम मूर्ति पाठक,यशवंत मिश्रा,बृज बिहारी पाठक,अमरीष पाठक, जितेश,रिंकू,मुरारी,वीरेंद्र,दयानंद,इत्यादि संख्या में मौजूद थे।



NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.