• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

दो साल से सामुदायिक भवन में रहने के लिए हुए मजबूर-आखिर क्यू नहीं कोई ले रहा है गरीबों की सुध 

1 min read

दो साल से सामुदायिक भवन में रहने के लिए हुए मजबूर-आखिर क्यू नहीं कोई ले रहा है गरीबों की सुध 

NEWS TODAY (ब्यूरो चीफ-बबलु कुमार)कसमार:- बोकारो जिला के कसमार प्रखंड स्थित मंजुरा पंचायत के टोला पूरना पानी निवासी का घर गिर गया रहने के लिए सामुदायिक भवन में आश्रय 2 वर्षों से रह रहे हैं।

ये भी पढ़े- डीवीसी प्रबंधन से नाराजगी जाहिर कर झामुमो कार्यकर्ताओं ने गिरिडीह सांसद का पुतला फूंका

इनके एक पुत्र अमर सिंह उम्र 20 वर्ष वर्तमान में घर की हालत देख मजदूरी करने गोवा चला गया है। दासो के तीन पुत्री व दो पुत्र हैं। इनकी सरकारी लाभ कुछ भी नहीं मिला है ना तो राशन कार्ड है, और ना ही आवास मिला है। राशन कार्ड बना भी है तो क्या शफेद कार्ड उसमे ना अनाज का एक दाना मिलता है और न ही कुछ और खाद्य सामग्री। परिवार तंगहाली में जीवन काट रहे हैं अपनी फरियाद किस को सुनाएं ओर केसे सुनाए। दासो सिंह वर्तमान में सरकार द्वारा निर्मित सामुदायिक भवन में विगत 2 वर्षों से रह रहे हैं। उसी में इनका मवेशी भी रहता है। घर की स्थिति देखकर नहीं लगता है, कि प्रशासन गरीबों पर मेहरबान है। प्रशासन महज एक पुतले की तरह खड़ा है।

वही धनु सिंह और दासो सिंह दोनों भाई हैं धनु सिंह के तीन पुत्री 3 पुत्र हैं। दोनों का घर गिर चुका है इन्हें भी राशन कार्ड आवास नहीं मिला है इनकी एक पुत्री हैदराबाद चली गई है। घर की स्थिति काफी दयनीय है रहने खाने को लाले पड़ रहे हैं।

वही मंजूरा के पंचायत स्वयंसेवक मिथिलेश कुमार महतो का कहना है, कि स्थानीय मुखिया नरेश महतो की लापरवाही एवम् उदासीन रवैया के कारण जरुरतमंद व्यक्ति को लाभ नही दिया जा सका है। जबकी पुरनापानी टोला मंजूरा पंचायत के सबसे पिछड़े टोलों में से एक है, परंतु स्थानीय मुखिया का इस क्षेत्र में कोई ध्यान नही है। वरीय अधिकारियों से आग्रह है, कि उक्त व्यक्ति को अविलंब सरकारी मदद किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.