• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

देश के सबसे बड़े अस्पताल एम्स के इलाज से 23 प्रतिशत मरीज खुश नहीं! क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर….

1 min read

नई दिल्ली।

देश के सबसे बड़े अस्पताल एम्स के इलाज से 23 प्रतिशत मरीज खुश नहीं! क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर….

Related imageनई दिल्ली। देशभर के सबसे बड़े अस्पताल दिल्ली एम्स में दिखाने आया औसतन हर चौथा मरीज इसके इलाज और दूसरी सुविधा से खुश नहीं है। 23 पर्सेंट मरीज एम्स में मिलने वाली इलाज और सुविधाओं से नाराज हैं। सबसे ज्यादा लोग इमर्जेंसी और सर्जरी विभाग के इलाज से संतुष्ट नहीं थे।

28 प्रतिशत मरीज इन विभागों के इलाज से खुश नहीं पाए गए है। दिल्ली एम्स की ओर से 9,940 मरीजों से लिए गए फीडबैक में ये बातें सामने आई है। फीडबैक में 77 पर्सेंट लोग इलाज से खुश हैं।
केंद्र सरकार ने मेरा अस्पताल फीडबैक की शुरुआत की है।

इसके आधार पर एम्स में फीडबैक लिया गया है। लोगों की नाराजगी की सबसे बड़ी वजह 35 पर्सेंट स्टाफ का व्यवहार पाया गया। इसके अलावा, 13 पर्सेंट मरीजों ने एम्स में इलाज के स्तर और 12 पर्सेंट ने इलाज के खर्च को लेकर नाराजगी जाहिर की है।

डॉक्टरों के अनुसार वेटिंग तो सिस्टम की मजबूरी है, लेकिन जो यहां से इलाज कराकर जाते हैं, उन्हें नई और बेहतर जिंदगी मिलती है।Related image इसके बाद आंखों के इलाज के लिए आरपी सेंटर पहुंचे 80 पर्सेंट मरीजों की राय सकारात्मक थी। इसी तरह पीडिएट्रिक्स और सायकायट्री विभाग का भी फीडबैक 80 पर्सेंट पाया गया है। ट्रॉमा सेंटर का 79 पर्सेंट, न्यूरोलॉजी 78, मेडिसिन 79, ईएनटी 75, स्किन विभाग के इलाज को 78 पर्सेंट ने सही ठहराया। इमरजेंसी विभाग से 72 पर्सेंट लोग खुश थे।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.