• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

दुनिया लड़ रही है कोरोनावायरस से पर इसी बीच कांगो में इबोला वायरस से हो चुकी है 5 मौते  

1 min read

दुनिया लड़ रही है कोरोनावायरस से पर इसी बीच कांगो में इबोला वायरस से हो चुकी है 5 मौते  

NEWSTODAYJ – कोरोनावायरस महामारी से अभी दुनिया जूझ ही रही था कि इस बीच डेमोक्रेटिक रिपब्लिक ऑफ कांगो में जानलेवा इबोला वायरस के नए मामले सामने आ गए हैं. कांगो एक ऐसा देश है, जो पहले से ही दुनिया के सबसे बड़े खसरे की महामारी के साथ-साथ कोरोनावायरस से भी जूझ रहा है. ये हैं दुनिया के 10 सबसे घातक वायरस ten ...एक रिपोर्ट के मुताबिक, कांगो के अधिकारियों ने बताया कि सोमवार को पश्चिमी शहर म्बानडाका में इबोला के 6 नए मामलों का पता चला है. जबकि 4 लोगों की मौत भी हो चुकी है. जानकारी के मुताबिक, अप्रैल में कांगो देश के पूर्वी हिस्से में इबोला महामारी के अंत की आधिकारिक घोषिणा करने ही वाला था, लेकिन नए मामले सामने आने के कारण उसने ऐसा नहीं किया. बता दे कि लगभग 2 साल चले इस वायरस ने 2275 से ज्यादा लोगों की जान ले ली थी.

दरअसल इबोला वाइबोला विषाणु रोग (EVD) या इबोला हेमोराहैजिक बुखार (EHF) बीते कुछ सालों में एक महामारी के तौर पर सामने आया है. इस वायरस की पहचान साल 1976 में की गई थी. इसके करीब चार दशक बाद मार्च 2014 में पश्चिमी अफ्रीका इसके नए मामले सामने आए थे. इस वायरस को इबोला के नाम से कांगो में ही जाना जाता है और दुनिया भर में इबोला से सबसे ज्यादा मौत भी कांगो में ही हुई है.

ये भी पढ़े…

e-rally से Bihar विधानसभा चुनाव के लिए प्रचार शुरु करने जा रही BJP

इबोला वायरस का संक्रमण जानवर से होता है. इसमें उल्टी की शिकायत हो सकती है. इसके अलावा कान, नाक या मुंह से खून आ सकता है. पेट में दर्द रहना, कमजोरी या फ्लू जैसे लक्षण महसूस करना, शरीर के अलग-अगल हिस्सों में दर्द होना, या शरीर के अलग अंगों पर फुंसियां निकल जाना भी इबोला के लक्षणों में शामिल है.

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.