• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

दिल्ली:मृत्यु दर है अधिकतम स्तर पर,मौत का आंकड़ा थमने में लगेगा वक्त…

1 min read

दिल्ली:मृत्यु दर है अधिकतम स्तर पर,मौत का आंकड़ा थमने में लगेगा वक्त…

 

NEWSTODAYJ_दिल्ली:राजधानी में कोरोना के दैनिक मामले भले ही तेजी से कम हो रहे हैं, लेकिन संक्रमितों के मुकाबले मृतकों की संख्या में कोई कमी नहीं आ रही है। इससे दिल्ली में पिछले एक सप्ताह की मृत्युदर अभी तक के अधिकतम स्तर (11 फीसदी) पर पहुंच गई है। डॉक्टरों का कहना है कि अभी भी आईसीयू में करीब 1800 मरीज भर्ती हैं। इनमें से कई की हालत गंभीर है। ऐसे में मौत के मामलों में कमी आने में कुछ दिन का समय और लग सकता है।

 

यह भी पढ़ें…दिल्ली:लॉकडॉउन भी असरदार नहीं रहा राजधानी के प्रदूषण पर,प्रदूषण में कोई कमी नहीं

दिल्ली में अप्रैल में प्रतिदिन औसतन 18 हजार मामले आने पर 186 लोगों की मौत हो रही थी। अब प्रतिदिन औसतन 600 मामले आने पर भी करीब 70 मौतें हो रही हैं। लिहाजा, संक्रमितों की संख्या कई गुना कम हो गई है, लेकिन मृतकों की संख्या में खास कमी नहीं आ रही है। एक सप्ताह के आंकड़ों पर गौर करें तो सात दिन में कोरोना के 4,217 मामले आए हैं, जबकि, 484 लोगों की मौत हुई है। यानी, एक सप्ताह कि मृत्युदर 11 फीसदी है, जो अभी तक अधिकतम है। हालांकि, कोरोना से कुल मृत्युदर अभी 1.72 प्रतिशत है।

 

एम्स में कोरोना आईसीयू वार्ड की जिम्मेदारी संभाल रहे डॉक्टर युद्धवीर सिंह बताते हैं कि देश में कोरोना की दूसरी लहर में  पहले के मुकाबले कई गुना मरीज अस्पतालों में भर्ती हुए। उन्होंने कहा कि इस समय जो मौत के मामले सामने आ रहे हैं, उनमें कई मरीज ऐसे भी हैं, जो एक या दो सप्ताह पहले भर्ती हुए थे, और अब उनकी मौत हो गई।

नए मरीज कम हो रहे

डॉक्टर के मुताबिक, इस समय भी 1800 मरीज आईसीयू में भर्ती हैं। इनमें से कई रोगियों की हालत गंभीर है। वेंटिलेटर सपोर्ट पर जाने के बाद 100 मे से 10 मरीजों की ही जान बच पा रही है। यही कारण है कि मौत के मामलों में कमी नहीं आ रही है। हालांकि, अब नए मरीज कम हो रहे है। ऐसे में आने वाले एक सप्ताह में मौतें भी कम होने लगेंगी

Leave a Reply

Your email address will not be published.