• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

दिल्ली:दिल्ली सरकार खाद्य योजना को बदले नही बल्कि नई स्कीम लाएं:केंद्र सरकार का जवाब

1 min read

दिल्ली:दिल्ली सरकार खाद्य योजना को बदले नही बल्कि नई स्कीम लाएं:केंद्र सरकार का जवाब

 

NEWSTODAYJ_दिल्ली:केंद्र सरकार ने दिल्ली में 72 लाख राशन कार्डधारकों को फायदा पहुंचाने वाली डोर टू डोर राशन स्कीम को रोकने के आप सरकार के आरोपों को गलत औऱ राजनीति से प्रेरित बताया है. खाद्य मंत्रालय ने दिल्ली सरकार के आऱोपों पर एक विस्तृत बयान जारी किया. लिहाजा यह कहना गलत है कि केंद्र सरकार उसे ऐसा कुछ करने से रोक रही है. सरकार भला अपने देश के नागरिकों को किसी कल्याणकारी योजना से वंचित क्यों करेगी. आप सरकार नई योजना लेकर आए और उसे कुछ भी नाम दे. केंद्र सरकार उसके लिए राशन मुहैया कराने को तैयार है. लेकिन मौजूदा राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून (NFSA) की मौजूदा योजना को वह क्यों बिगाड़ना चाहती है?

यह भी पढ़ें….दिल्ली:मृत्यु दर है अधिकतम स्तर पर,मौत का आंकड़ा थमने में लगेगा वक्त

केंद्र सभी राज्यों में खाद्य सुरक्षा कानून के तहत समान बर्ताव कर रहा है. लेकिन दिल्ली सरकार राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा योजना (National Food Security Act) में बदलाव कर राज्य के उपभोक्ताओं के हितों की कीमत पर ज्यादा दाम वसूलना चाहती है. इसमें कहा गया कि केंद्र सरकार ने दिल्ली सरकार को उसकी इच्छानुसार राशन वितरण से नहीं रोका है. वे किसी भी अन्य योजना के तहत ऐसा कर सकते हैं. केंद्र सरकार उसके लिए राशन मुहैया कराएगी. इसमें समस्या कहां है? दिल्ली सरकार राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा कानून के तहत अपना 37,400 टन का पूरा अनाज का कोटा उठाती रही है और उसका 90 फीसदी तक बांटती रही है. जहां तक प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना की बात है तो दिल्ली सरकार 63,200 मीट्रिक टन राशन उठाया है, जो मई में उसके आवंटन का 176 फीसदी है. इसमे से 73 फीसदी बांटा भी गया है.

 

एनएफएसए के तहत केंद्रीय आवंटन

भारत सरकार ने उन्हें केवल नियम की स्थिति के बारे में सूचित किया था. आगे यह नोट किया जा सकता है कि दिल्ली सरकार ने भारत सरकार के कई प्रयासों के बावजूद गरीब और कमजोर नागरिकों-ओएनओआरसी के लाभ के लिए है, इस पर कार्रवाई नहीं की है. इससे दिल्ली सरकार को बिना कोट के दिल्ली के दस लाख से अधिक प्रवासी कामगारों और एनएफएसए के तहत केंद्रीय आवंटन की कीमत पर सेवा मिल सकती थी. जीएनसीटीडी (GNCTD) ने अपने लगभग 2000 एफपीएस (FPS) में अप्रैल 2018 में ईपीओएस (EPOS) मशीनों के उपयोग को निलंबित कर दिया था. कई दौर के अनुनय के बाद, हाल ही में केवल 2000 से अधिक एफपीएस (FPS) पर ईपीओ स्थापित किए गए हैं, लेकिन इनका उपयोग ऑनलाइन पीडीएस (PDS) लेनदेन के लिए पूरी तरह से नहीं किया गया है. यह सीधे तौर पर एनएफएसए (NFSA) और पीएमजीकेए (PMGKA) के तहत पारदर्शिता और सही लक्ष्यीकरण को कमजोर करता है.

Leave a Reply

Your email address will not be published.