डॉक्टरों द्वारा शख्स को मृत घोषित करने के बाद पोस्टमार्टम में निकला जिन्दा,पर कुछ देर बाद….

डॉक्टरों द्वारा शख्स को मृत घोषित करने के बाद पोस्टमार्टम में निकला जिन्दा,पर कुछ देर बाद….

NEWS TODAY लोहरदगा  जिले के कैरो थानाक्षेत्र के खरता गांव में करंट लगने से युवक की मौत हो गई. इस मामले में मौत घोषित करने को लेकर बड़ी लापरवाही सामने आई है. युवक को जिंदा रहते ही चान्हो प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के चिकित्सकों ने मृत घोषित कर दिया. बाद में जब शव पोस्टमार्टम के लिए रिम्स पहुंचा, तो वहां पोस्टमार्टम से पहले पता चला कि युवक जिंदा है. इसके बाद युवक को तत्काल आईसीयू में भर्ती कराया गया. जहां कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई.

बताते चले कि खरता गांव निवासी केंदरा उरांव का पुत्र जितेंद्र उरांव गांव में ही लगाए गए टेंट को खोल रहा था. टेंट खोलने के क्रम में ऊपर से गुजरे 11 हजार वोल्ट की चपेट में वह आ गया. जिससे बुरी तरह झुलस गया. मामले की जानकारी जितेंद्र के परिजनों को मिली, तो उन्होंने ग्रामीणों की सहायता से जितेंद्र को आनन-फानन में इलाज के लिए रांची जिले के चान्हो स्थित सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पहुंचाया. जहां जांच के उपरांत चिकित्सकों ने युवक को मृत घोषित कर दिया.

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

ये भी पढ़े,,,

बस दुर्घटना का शिकार पश्चिम बंगाल के दो शख्स की रिम्स में मौत जिसमें एक पाया गया कोरोना पॉजिटिव

वहीँ मामले की सूचना मिलने पर चान्हो थाना पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए रांची स्थित रिम्स भेज दिया. साथ ही कैरो थाना पुलिस को भी घटना की सूचना दे दी. परिजन जब शव को लेकर रिम्स पहुंचे तो यहां पर पोस्टमार्टम से पहले पता चला कि युवक जिंदा है. इसके बाद युवक को आईसीयू में भर्ती कराया गया, जहां कुछ देर बाद उसकी मौत हो गई. वहीं युवक के परिजनों का आरोप है कि यदि युवक को समय पर इलाज मिल जाता, तो उसकी जान बच सकती थी. युवक की मौत के लिए स्वास्थ्य केन्द्र के डॉक्टर जिम्मेदार हैं.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here