टूरिस्ट वीजा लेकर धर्म प्रचार करने वाले 17 विदेशियों की अदालत ने जमानत अर्जी खारिज की

टूरिस्ट वीजा लेकर धर्म प्रचार करने वाले 17 विदेशियों की अदालत ने जमानत अर्जी खारिज की

NEWSTODAYJ अदालत ने सभी विदेशियों की जमानत याचिका ख़ारिज कर दी जो टूरिस्ट वीजा लेकर धर्म प्रचार करने वाले तबलीगी जमात से जुड़े थेl आपको बता दें की 17 विदेशियों की जमानत अर्जी सुनवाई के बाद खारिज कर दी। फ़िलहाल सभी विदेशी जेल में हैं। यूके का महासीन अहमद एवं शिपहान हुसैन खान समेत अन्य विदेशियों की ओर से 25 मई को जमानत याचिका दाखिल की गई थी। 12 मई को मुख्य न्यायिक दंडाधिकारी की अदालत ने सभी आरोपियों की जमानत याचिका खारिज कर दी थी।

इसके बाद राहत के लिए ऊपरी अदालत में याचिका दाखिल की है। इनलोगों के खिलाफ हिंदपीढ़ी थाना में 7 अप्रैल 2020 को कांड संख्या  34/20 के तहत नामजद प्राथमिकी दर्ज की गई थी। इन पर वीजा नियमों का उल्लंघन करने, टूरिस्ट वीजा पर आकर धर्म का प्रचार-प्रसार करने , राष्ट्रीय आपदा प्रबंधन अधिनियम के तहत महामारी नियमों का उल्लंघन, संक्रमण फैलाने का वाहक बनने, लॉकडाउन के नियमों उल्लंघन करने की धाराओं के तहत प्राथमिकी दर्ज की गई है।

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

ये भी पढ़े…

महीनों के बकाया मानदेय को लेकर उर्जा मित्र हड़ताल पर

हालांकि पुलिस ने इन विदेशी नागरिकों को 30 मार्च को बड़ी मस्जिद से हिरासत में लेकर पृथकवास में भेजा था। 22 अप्रैल को मामले के सभी आरोपियों को रिमांड पर लिया गया। तबलीगी जमात की मलेशियायी महिला राज्य की पहली कोरोना पॉजिटिव निकली थी। 30  मार्च को सभी पकड़े गए थे और 31 मार्च को महिला पॉजिटिव पायी गई थी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here