टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली आज मना रहे हैं अपना 48वां जन्मदिन

[URIS id=45547]

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली आज मना रहे हैं अपना 48वां जन्मदिन

NEWSTODAYJभारत के लिए 113 टेस्ट मैचों में 7212 रन बनाए, जिसमें उनके बल्ले से 16 शतकl वहीं वनडे में भी 311 मैचों में 11,363 रन बनाए और कुल 22 शतक ठोकेl इसके अलावा उनके नाम वनडे में 100 और टेस्ट मैचों में 32 विकेट भी हैंl आज की बड़ी खबरें, समाचार हिंदी में ...जी हम बात कर रहे हैं टीम इंडिया के पूर्व कप्तान सौरव गांगुली की, जो आज अपना 48वां जन्मदिन मना रहे हैंl सौरव गांगुली ने भारतीय क्रिकेट को अर्श तक पहुंचायाl उसे एक ऐसी राह दिखाई, जिसके बाद टीम इंडिया की दशा, दिशा और सोच पूरी तरह बदल गईl सौरव गांगुली ने अपना टेस्ट डेब्यू साल 1996 में लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान में कियाl गांगुली ने पहले ही मैच में 131 रन की शानदार पारी खेलीl वो पहले टेस्ट में ही शतक जड़ने वाले दुनिया के तीसरे बल्लेबाज बन गएl बता दें सचिन तेंदुलकर अपने पूरे करियर में लॉर्ड्स के ऐतिहासिक मैदान पर शतक नहीं लगा सके, लेकिन दादा ने इसे डेब्यू मैच में ही कर दिखायाlSourav Ganguly Birthday Special: Hardly You Know The Records Of ...गांगुली ने कप्तान बनने के बाद उसकी सोच ही बदल डालीl वो गांगुली ही थे, जिन्होंने टीम इंडिया को आक्रामक क्रिकेट खेलने का मंत्र दियाl यही वजह रही कि घर पर शेर कही जाने वाली टीम इंडिया ने विदेश में भी सीरीज जीतनी शुरू कीl सौरव गांगुली टीम इंडिया को 20 से ज्यादा टेस्ट मैच जिताने वाले पहले भारतीय कप्तान बनेl गांगुली की कप्तानी में टीम इंडिया ने 21 टेस्ट मैच जीतेl हालांकि उनके इस आंकड़े को पहले धोनी और उसके बाद विराट कोहली ने पछाड़ दिया l

ये भी पढ़े…

STF ने मार गिराया आठ पुलिसकर्मियों के हत्यारा विकास दुबे के राइट हैंड अमर दुबे को

सौरव गांगुली को बाएं हाथ के बल्लेबाजों से बेहद प्यार हैl ऐसा कहा जाता है कि उन्हें दुनिया के हर बाएं हाथ के बल्लेबाज के आंकड़े रटे हुए हैं. गांगुली खुद भारत के महानतम बाएं हाथ के बल्लेबाज माने जाते हैं, लेकिन क्या आप जानते हैं कि गांगुली पहले दाएं हाथ से खेलते थेl लेकिन उनके भाई स्नेहाशीष बाएं हाथ से सब काम करते थे और उन्हें देखकर गांगुली ने बाएं हाथ से खेलना शुरू कियाl आपको बतादें कि सौरव गांगुली का पहला प्यार फुटबॉल था, लेकिन बड़े भाई स्नेहाशीष ने उन्हें क्रिकेट के के लिए प्रेरित कियाl संयोग देखिए बाद में गांगुली ने अपने बड़े भाई स्नेहाशीष की जगह बंगाल रणजी टीम में लीl

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here