झारखण्ड का एक क्वारंटाइन सेंटर ऐसा जहां रह रहे मनमर्जी लोग शाम होते ही छलकाने लगते हैं जाम का प्याला

झारखण्ड का एक क्वारंटाइन सेंटर ऐसा जहां रह रहे मनमर्जी लोग शाम होते ही छलकाने लगते हैं जाम का प्याला

NEWS TODAY जमशेदपुर  क्वारंटाइन सेंटर कोरोना को लेकर बनाया गया ऐसा जगह है जहाँ संदिग्ध या बाहर से आये लोग एहतियात के तौर पर रखे जाते हैं पर क्वारंटाइन सेंटर में अगर क्वारंटाइन होंने की जगह जाम झलकता मिले तो फिर इसे क्या कहेंगेl आपको बतादें कि ऐसा ही एक मामला पूर्वी सिंहभूम जिले के बहरागोड़ा के खंडामौदा ओडिया प्लस टू हाईस्कूल स्थित क्वारंटाइन सेंटर में शाम होते ही जाम का सिलसिला शुरू हो जाता हैl इस सेंटर में 154 लोगों को क्वारंटाइन किया गया हैlझारखंड के इस क्वारंटाइन सेंटर में शाम होते ही छलकने लगता है जाम

दरअसल क्वारंटाइन सेंटर से करीब 250 मीटर की दूरी पर शराब की अवैध बिक्री होती हैl यहीं से क्वारंटाइन सेंटर में देसी और विदेशी, दोनों तरह की शराब ले जाई जाती हैंl प्रशासन को लगातार इसकी शिकायतें भी मिल रही हैंl जानकारी के मुताबिक इस क्वारंटाइन सेंटर की निगरानी का जिम्मा पंचायत सचिव अवनी नायक और पूर्व मुखिया सह मुखिया प्रतिनिधि पंचानन मुंडा पर हैl सेंटर की देखभाल के लिए कुछ वेतनधारी कर्मचारियों को भी रखा गया हैl बावजूद इसके यहां शराब पी जाती हैl गुरुवार की शाम को यहां भर्ती कई मजदूरों को चखना के साथ शराब पीते देखा गयाl यहां क्वारंटाइन किये गये स्थानीय लोगों के परिजन भोजन लेकर सेंटर के पास खड़े दिखेl

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

ये भी पढ़े…

जरूरत पड़ी तो झारखण्ड में लॉकडाउन को आगे बढ़ाने से भी पीछे नहीं हटेंगे-हेमंत सोरेन

वहीँ इसके विपरीत ग्रामीणों ने बताया कि क्वारंटाइन किये गये मजदूर सामान खरीदने के बहाने यहां से निकलकर गांव के अंदर दुकानों में भी जाते हैं. कई तो अपने घर खाना खाने के लिए भी चले जाते हैं. स्कूल परिसर में चहारदीवारी नहीं है. लिहाजा बड़े आराम से यहां शराब की आपूर्ति अवैध तरीका से होती है. इस बारे में पूछे जाने पर पंचायत सचिव अवनी नायक ने बताया कि यहां क्वारंटाइन किये गये लोगों को कई बार ऐसा करने से मना किया गया है, पर वे मानते ही नहीं हैंl

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here