• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

जल शक्ति अभियान में धनबाद को मिला पूरे देश में पहला रैंक। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर…….

1 min read

धनबाद।

जल शक्ति अभियान में धनबाद को मिला पूरे देश में पहला रैंक। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर…….

धनबाद। जलशक्ति मंत्रालय द्वारा ताज़ा रैंकिंग रिपोर्ट के अनुसार धनबाद को पहला रैंक मिला है। जबकि तेलंगाना का महबूबनगर नंबर दो और यूपी का कासगंज जिला नंबर तीन पर है। जल संरक्षण और वर्षा जल संरक्षण के लिए रिकार्ड पाैधरोपण किया गया है। सिर्फ धनबाद सहरी क्षेत्र में ही डेढ़ लाख पाैधे लगाए गए। इसके साथ ही जल संरक्षण के लिए बहुत सारे कदम उठाए गए हैं। जल शक्ति मंत्रालय की ओर से जारी ताजा रैंकिंग में धनबाद को देश में पहला रैंक मिली है। पिछले माह धनबाद तीसरे स्थान पर था। धनबाद ने उत्तर प्रदेश के कासगंज और गुजरात के बनस कंठा को पीछे छोड़ते हुए यह उपलब्धि हासिल की है। टॉप-10 की सूची में झारखंड से इकलौता धनबाद शहर ही शामिल है। धनबाद को 91.38, महबूब नगर को 89.15 और कासगंज को 70.43 स्कोर मिला है। जल शक्ति मंत्रालय ने इस अभियान में शामिल 254 जिलों की रिपोर्ट जारी की है। धनबाद को पहले स्थान पर पहुचने के लिए अबतक लाखो लाख पौधे लगाए जा चुके हैं। एक घंटे मेंं रिकार्ड 1.41 लाख पौधे जिले में लगाए गए। जलशक्ति अभियान के तहत जिले में अधिक से अधिक तालाब बने और मरम्मत हुए। जिले के लगभग सभी प्रखंडों में हजार ट्रेंच कटिंग की गई। सभी नए अपार्टमेंट्स में अनिवार्य रूप से रेन वाटर हार्वेस्टिंग की व्यवस्था किया गया। पुराने अपार्टमेंट्स, भवन, मकान में वाटर हार्वेस्टिंग अनिवार्य किया गया। घर का पानी घर में कार्यक्रम के तहत महिलाओं को सोख्ता बनाने तथा वृक्षारोपण करने के लिए प्रेरित किया गया। जल संरक्षण को लेकर कई प्रतियोगिताएं की गई। जागरूकता अभियान के तहत रैलियां निकाली गई।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें