• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

जब तक पाकिस्तान आतंक को ख़त्म करना सुनिश्चित नहीं करता तब तक शांति नहीं हो सकता

1 min read

जब तक पाकिस्तान आतंक को ख़त्म करना सुनिश्चित नहीं करता तब तक शांति नहीं हो सकता

NEWS TODAY- अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की भारत यात्रा के बाद अमेरिकी विदेश मंत्रालय ने पाकिस्‍तान को आतंकवाद के मुद्दे पर पर फिर घेरा है अपनी सरजमीं पर आतंकवाद को पनाह देने वाले पाकिस्‍तान को एक बार फिर खरी-खोटी सुननी पड़ी हैl अमेरिकी विदेश मंत्रलाय की प्रवक्‍ता मॉर्गन ऑर्टागस ने मंगलवार को ने साफतौर पर कहा कि अफगानिस्तान या दक्षिण-पूर्व एशिया में तब तक शांति का माहौल नहीं हो सकता, जब तक पाकिस्तान अपनी जमीन से आतंकवाद को खत्‍म करना सुनिश्चित नहीं कर लेताl

ये भी पढ़े-लोकसभा में कांग्रेस नेता अधीर रंजन के घर पर हमला-सुरक्षा के लिए मांगी Z कैटेगरी’ सिक्योरिटी

अमेरिकी विदेश मंत्रलाय की प्रवक्‍ता मॉर्गन ऑर्टागस ने अफगानिस्‍तान में आतंकवाद के मुद्दे पर भी बात की. उन्‍होंने कहा कि भारत अफगानिस्‍तान में अमेरिका का पिछले 20 साल से अहम सहयोगी रहा है. हम जानते हैं कि दोनों देश अगले कई दशक तक साथ में काम करेंगे.

अमेरिकी विदेश मंत्रलाय की प्रवक्‍ता मॉर्गन ऑर्टागस से पूछा गया कि क्‍या अमेरिका ने पाकिस्‍तान से आतंकवाद को रोकने की बात की है. इस पर उन्‍होंने कहा, ‘हां, अमेरिका और पाकिस्‍तान के बीच रिश्‍ता काफी जटिल रहा है. इसका सबूत है कि डोनाल्‍ड ट्रंप ने अपने शुरुआती दिनों में पाकिस्‍तान को दी जाने वाली सैन्‍य सहायता को रोकने का फैसला लिया था.’ अमेरिका ने तालिबान के साथ शनिवार को एक ऐतिहासिक समझौते पर हस्ताक्षर किए और 14 माह के भीतर अपने सारे सैनिकों को वापस बुलाने की एक रूपरेखा भी पेश की. इस समझौते के साथ ही तालिबान और काबुल सरकार के बीच भी बातचीत की उम्मीद जगी है जिससे 18 साल से चल रहे संघर्ष के भी खत्म होने के आसार हैl

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें