• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

छह विधायकों के दल-बदल मामले में फैसला कल

1 min read

रांची।

छह विधायकों के दल-बदल मामले में फैसला कल

रांची। झारखंड विकास मोर्चा के छह विधायकों अमर बाउरी, रणधीर सिंह, नवीन जायसवाल, आलोक चौरसिया, जानकी प्रसाद यादव और गणेश गंझू के दल-बदल मामले में विधानसभा अध्यक्ष के न्यायाधीकरण की ओर से कल 20 फरवरी को फैसला सुनाये जाने की तिथि निर्धारित की गयी है। न्यायाधीकरण की ओर से फैसला याचिकाकर्त्ता बाबूलाल मरांडी व अन्य की ओर आएगा, या फिर विधायकों के पक्ष में जाएगा, सरकार की सेहत पर कोई खास असर नहीं पड़ेगा। हालांकि इतना तय है कि इस फैसले का राज्य की राजनीति पर दूरगामी असर जरूर पड़ेगा।
82 सदस्यीय झारखंड विधानसभा में भाजपा विधायकों की संख्या 36 है, वहीं एक मनोनीत सदस्य को लेकर यह संख्या 37 तक पहुंच जाती है। ऐसी स्थिति में झाविमो से भाजपा में शामिल होने वाले छह विधायकों की सदस्यता समाप्त भी हो जाती है, तो सदस्यों की कुल संख्या घटकर 76 हो जाएगी,

जबकि एक सदस्य स्पीकर होते है, इस तरह 75 सदस्यीय विधानसभा में बहुमत के लिए भाजपा को बहुमत के लिए 38 सीटों की जरूरत होगी। सत्तारूढ़ गठबंधन में आजसू के चार सदस्य शामिल है, इसलिए सदन में फिलहाल एनडीए गठबंधन को पूर्ण बहुमत प्राप्त है। इसके अलावा सत्तापक्ष को नौजवान संघर्ष मोर्चा के भानू प्रताप शाही और बसपा के कुशवाहा शिवपूजन मेहता का समय-समय पर अपरोक्ष रूप से समर्थन मिलता रहता है।
विधानसभा अध्यक्ष के न्यायाधीकरण की ओर से इस दल-बदल मामले में यदि छह विधायकों के पक्ष में फैसला आता है, तो झाविमो की ओर से इस फैसले के खिलाफ हाईकोर्ट में याचिका दायर की जा सकती है, वहीं यदि फैसला विधायकों के विरोध में आता है, तो नैतिकता के आधार पर सरकार में मंत्री के रूप में शामिल अमर कुमार बाउरी और रणधीर सिंह पर इस्तीफा देने का दबाव बढ़ेगा, इसके अलावा तीन विधायक अलग-अलग बोर्ड निगम में शीर्ष पद पर तैनात है।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें