• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

चीन ने मच्छरों को नपुंसक बनाकर किया घातक प्रजाति का सफाया। पढ़ें पूरी खबर…….

1 min read

बीजिंग।

चीन ने मच्छरों को नपुंसक बनाकर किया घातक प्रजाति का सफाया। पढ़ें पूरी खबर…….

बीजिंग। दुनियाभर में मच्छरों की लाखों प्रजातियां हैं, जिनमें से कुछ जानलेवा प्रजातियां हैं। दुनियाभर में असमय मौत का एक कारण मच्छर भी हैं। मच्छरों की वजह से दुनियाभर में डेंगू और मलेरिया की बीमारी पैर पसार रही है। आंकड़ों के मुताबिक पूरी दुनिया में 128 देशों में डेंगू फैला हुआ है, लेकिन आज तक कोई भी देश पूरी तरह से डेंगू मुक्त नहीं हो सका है। लेकिन चीन इसमें कामयाब होता दिख रहा है।  इसके लिए चीन के वैज्ञानिकों ने दक्षिणी चीन के गुआंगझाओ में दो द्वीपों पर एक प्रयोग करते हुए मादा एशियन टाइगर मच्छर की प्रजाति का 99 फीसदी सफाया कर दिया। वैज्ञानिकों ने इसके लिए एसआईटी नाम की एक तकनीक का इस्तेमाल किया।  इस प्रक्रिया को पूरे दो साल का समय लगा लेकिन मच्छरों का धीरे-धीरे जड़ से सफाया हो गया।
स्टडी के अनुसार, वैज्ञानिकों ने जहां मादा मच्छरों को रेडिएशन के कम स्तर के जरिए नपुंसक बनाया तो वहीं नर मच्छरों के लिए उन्होंने वोल्बाचिया बैक्टीरिया का इस्तेमाल किया। इन मच्छरों को फिर 2016 से 2017 के बीच ब्रीडिंग सीजन के दौरान गुआंगझाओ द्वीप पर छोड़ दिया गया। परिणामस्वरूप दो द्वीपों से मच्छरों की पूरी प्रजाति को लगभग पूरी तरह खत्म करने में सफलता मिली। जानकारों के अनुसार, मच्छरों की एशियन टाइगर प्रजाति को पारंपरिक जनसंख्या नियंत्रण के तरीकों (जैसे कि कीटनाशक का प्रयोग, गंदा पानी जमा न होने देना आदि) के जरिए खत्म कर पाना मुश्किल होता है। यह प्रजाति पिछले 40 सालों में एशिया से लेकर लगभग हर द्वीप पर फैल चुकी है।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.