• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

चामलिंग के 24 साल के शासनकाल को खत्म करते हुए प्रेम सिंह तमांग सिक्किम के नए मुख्यमंत्री बने । पढ़ें पूरी खबर……..

1 min read

गंगटोक।

चामलिंग के 24 साल के शासनकाल को खत्म करते हुए प्रेम सिंह तमांग सिक्किम के नए मुख्यमंत्री बने । पढ़ें पूरी खबर……..

गंगटोक। पूर्व मुख्यमंत्री पवन कुमार चामलिंग के 24 साल के शासनकाल को खत्म करते हुए पीएस गोले के रूप में ख्यात प्रेम सिंह तमांग सिक्किम के नए मुख्यमंत्री बने हैं। हाल ही में संपन्न विधानसभा चुनाव में राज्य की 32 सीटों में से उनकी पार्टी को 17 सीटें मिली हैं। Image result for सिक्किम में तमांग ने खत्म किया 24 साल पुराना चामलिंग शासनचामलिंग के नेतृत्व वाले सिक्किम डेमोक्रेटिक फ्रंट (एसडीएफ) के संस्थापक सदस्य रहे गोले ने पूर्व मुख्यमंत्री के खिलाफ बगावत कर 2013 में सिक्किम क्रांतिकारी मोर्चा (एसकेएम) का गठन किया। उन्होंने एसडीएफ पर भ्रष्टाचार और कुशासन का आरोप लगाया था। गठन के अगले ही साल 2014 के विधानसभा चुनाव में एसकेएम ने 10 सीटें जीतीं।

नेपाली माता-पिता कालू सिंह तमांग और धान माया तमांग के पुत्र गोले का जन्म पांच फरवरी 1968 में हुआ था। गोले ने दार्जिलिंग के एक कॉलेज से स्नातक किया और एक सरकारी स्कूल में शिक्षक के रूप में काम करना शुरू किया। समाज सेवा के लिए उन्होंने तीन साल की सेवा के बाद सरकारी नौकरी छोड़ दी और बाद में एसडीएफ में शामिल हो गए।

गोले की तीन दशक की राजनीतिक यात्रा काफी संघर्षपूर्ण रही है। वह 1994 से लगातार पांच बार सिक्किम विधानसभा के लिए चुने गए और 2009 तक एसडीएफ सरकार में मंत्री के रूप में कार्य किया। एसडीएफ सरकार के चौथे कार्यकाल (2009-14) के दौरान चामलिंग ने उन्हें मंत्री पद देने से इंकार कर दिया इसके बाद गोले ने पार्टी छोड़ दी और अपना दल बनाया। उन्होंने एसडीएफ के सभी पदों से इस्तीफा दे दिया। एसकेएम का गठन किया और इसके प्रमुख की जिम्मेदारी संभाली।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.