चंदनकियारी में माँ को विदाई देने का अनोखा तरीका, यहाँ जमीन पर लेटकर माँ को करते हैं विदा।

0
98

बोकारो।

चंदनकियारी में माँ को विदाई देने का अनोखा तरीका, यहाँ जमीन पर लेटकर माँ को करते हैं विदा।

बोकारो। चंदनकियारी प्रखंड में  विजया दशमी को श्रद्धालुओं ने भावभीनी मन से मा को विदाई किया गया। साथ ही लोगो ने विजयादशमी के त्यौहार हर्ष उल्लास के साथ मनाया तथा इससे पहले श्रद्धालुओं ने मंदिरों में मां की विदाई के लिए पूजा-अर्चना की। महिलाओं ने सिंदूर खेल कर अपने पति की लंबी उम्र की कामना के सठगले वर्ष माँ को आने का आह्वान किया। इधर चंदनक्यारी स्थित बाजार में सालों से एक परंपरा चली आ रही है। यहां जब विजयादशमी के दिन मां को विदाई किया जाता है तो उनके चरणों की धूल को अपने उपर लेकर उनसे सुख समृद्धि की कामना करते हैं। साथ ही आशीर्वाद के साथ उन्हें अगले वर्ष फिर से आने के लिए आह्वान करते हैं। मां के चरणों की धूल के लिए सभी भक्त मां के मंदिर से चंदनकियारी मोड़ स्थित तालाब तक लगभग के किलोमीटर तक जमीन में दंडवत प्रणाम करके पड़े रहते हैं। श्रद्धालुओं के ऊपर से मां के कलश को पुजारी माथे पर रखकर सभी के गुजरते हैं। इस दौरान चंदनकियारी समेत बंगाल के काफी लोग जमीन में लेटकर विदाई देने के लिए पंहुचते हैं। वहीं मानपुर गांव में माँ दुर्गा का कलर्स पालकी मैं चढ़ाकर गाजियाबाद के साथ सैकड़ों भक्तों ने तालाब में विसर्जन किया।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here