• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

गोविंदपुर, कहाँ मिलेगा दलितों का आशियाना

1 min read

न्यूज टुडे

झारखंड बिहार




खास रिपोर्ट न्यूज़ टुडे टीम।


गोविंदपुर।

छोटे खान।

प्रधानमंत्रीआवास योजना का गोविंदपुर प्रखंड में  बुरा हाल वन विभाग ने  4 परिवारों के बन रहे घर पर लगाया रोक।

केंद्र के साथ साथ झारखंड सरकार ने 2022 तक सूबे के सभी गरीब परिवारों को पक्का मकान उपलब्ध कराने का वायदा किया है।

इसी क्रम में झारखंड के तमाम जिलों में प्रधानमंत्री आवास योजना का कार्य जोर-शोर से चलाया जा रहा है लेकिन सरकार का ही एक विभाग धनबाद में 4  परिवारों को उनके सपनों का पक्का आशियाना बनाने से रोक रहा है ।

क्या है पूरा मामला देखिए इस रिपोर्ट में।

धनबाद जिले का गोविंदपुर प्रखंड में पड़ने वाला दुमदुमी गांव के  बाउरी टोला में पिछले 60 वर्षों से मधु बाउरी, सुधा बाउरी, सुखु  बाउरी और सहदेव बाउरी का परिवार तत्कालीन बिहार सरकार की ओर से दिए गए वन अधिकार पट्टे के आधार पर आवंटित किए गए 3-3 डिसमिल जमीन पर अपना कच्चा आवास बनाकर रहते आ रहे हैं।

अभी हाल ही में इन्हें प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ मिला है और इसी के तहत चारों परिवार की ओर से पक्के आशियाने का निर्माण करवाया जा रहा था।

वन विभाग ने लगाया रोक।

इसी बीच वन विभाग के एक पदाधिकारी ने इनके गृह निर्माण कार्य को रोक दिया है।

न सिर्फ कार्य को रोका है बल्कि परिवारों को इस जगह को छोड़कर अन्यत्र चले जाने की सख्त हिदायत दी है

और साथ ही कहा है कि और अगर वो यहां से  नहीं गए तो बुलडोजर  लगाकर इनके घर को धराशाई कर दिया जाएगा वन विभाग के पदाधिकारी के धमकी के बाद इन दलित परिवारों में दहशत का माहौल कायम हो गया है।

पट्टे का  कागज लेकर कभी बीडीओ के पास तो कभी सीओ के पास दौड़ते-दौड़ते ये परेशान हो चुके हैं 

वन विभाग के वरीय पदाधिकारी से भी लगा चुके है गुहार।

वन विभाग के वरीय पदाधिकारियों से भी मिलकर गुहार लगाई।लेकिन राहत नहीं मिल रही है। लेकिन परिवार वाले बताते है की इन्हें 12 डिसमिल जमीन का वनाधिकार पट्टा लगभग 60 वर्ष पूर्व ही मिल चुका था।

और उसी के आधार पर उन्हें इंदिरा आवास का भी लाभ लगभग 25 वर्ष पहले मिला था। लेकिन जब प्रधानमंत्री आवास योजना का लाभ  मिला तो वन विभाग ने आवास निर्माण कार्य पर  लगा दी।

महिलाये कह रही परिवार बढ़ रही है तो घर तो बनाना ही पड़ेगा।

परिवार की महिलाओं की करें तो उनका कहना है कि तब परिवार छोटा था और जरूरतें कम थी। कम जगह की आवश्यकता थी तो किसी तरह काम चल जाया करती थी।

लेकिन पीढ़ी दर पीढ़ी परिवार बड़ा होता गया और सदस्यों की संख्या बढ़ने पर जब प्रधान मंत्री आवास योजना के तहत इन्होंने नए घर बनाने का काम शुरू किया। तो वन विभाग की तरफ से इन्हें धमकी देते हुए काम को रुकवा दिया गया ।

और सबसे अहम बात यह कि इन्हें  योजना की पहली किस्त भी  प्राप्त हो गई है लेकिन कार्य रुक जाने के कारण आगे की राशि भी रुक गई ।और अपने पक्के आशियाने में रहने का सपना भी फुर्र  होता दिख रहा है ।अब यह गरीब जाएं तो कहां जाएं ।

DDC ने कहा मामले की है जानकारी,करवाएंगे जाँच।

वही जब इन दलित परिवारों की समस्याओं को हमारे संवाददाता ने जिले के डीडीसी कुलदीप चौधरी के समक्ष रखा और उनसे जानकारी लेने का प्रयास किया कि आखिर इन दलितों के आवास निर्माण में वन विभाग क्यों रोड़े अटक रहा है?

तब उन्होंने कहा कि उन्हें संज्ञान में आया है वह बीडीओ को भेजकर उनके वन अधिकार पट्टा की जांच कराएंगे  साथ ही  वन विभाग के वरीय अधिकारियों से बात कर मामले का पटाक्षेप कराएंगे ताकि इनका आवास बन सके।

रखे आप को आप के आस पास के खबरों से आप को आगे,newstodayjharkhand.com watsaap9386192053

Leave a Reply

Your email address will not be published.