गुमला मे आदिवासी महिला ने अकेले नक्सली दस्ते से मुकाबला किया, एसपी ने किया सम्मानित

[URIS id=45547]

गुमला मे आदिवासी महिला ने अकेले नक्सली दस्ते से मुकाबला किया, एसपी ने किया सम्मानित

NEWS TODAY-झारखण्ड के गुमला मे पीएलएफआई नक्सलियों के दस्ते से अकेले लड़कर एरिया कमांडर बसंत गोप को मौत के घाट उतारने वाली आदिवासी महिला बिनीता उरांव को जिले के एसपी एचपी जनार्दनन ने सम्मानित किया. पीएलएफआई एरिया कमांडर बसंत गोप अपने साथियों के साथ बीते मंगलवार रात को बिनीता के घर धाबा बोला था. सभी नक्सली हथियार से लैस थे, लेकिन बिनीता ने टांगी से उनसे अकेले मोर्चा ले ली थी.परिवारवालों पर हमला होने से पहले ही बिनीता ने हिम्मत दिखाते हुए टांगी से उसपर हमला कर दिया. इस हमले में बसंत गोप गंभीर रूप से घायल हो गया. घायल एरिया कमांडर को लेकर उसके साथी जंगल भाग गये. दूसरे दिन सुबह जंगल से उसकी लाश मिली.

बसंत गोप लेवी के लिए उसके परिवार को तंग करता था. जिससे परेशान होकर पूरा परिवार गांव छोड़कर रांची चला गया. लॉकडाउन के कारण कुछ दिन पहले उसका परिवार रांची से गांव लौटा.यह खबर सुनकर बसंत उसके परिवार की हत्या करने आया था.

शुक्रवार को एसपी गांव पहुंचकर बिनीता से पूरी घटना की जानकारी ली. उसके बाद बिनीता को 21 हजार रुपये बतौर इनाम दिया. साथ ही राशन के पैकेट भी दिये. एसपी ने बिनीता को उसके परिवार की सुरक्षा का भरोसा दिलाया.

ये भी पढे…

गढ़वा में 20 मरीज कोरोना से संक्रमित

एसपी ने कहा कि इसी तरह की हिम्मत दिखाने से अपराधियों का मनोबल टूटता है. लेकिन लोग कानून को हाथ में लेने का प्रयास ना करें. पुलिस को सूचित करें. इस तरह के लोगों को सबक सिखाने के लिए पुलिस सक्षम है. एसपी ने कहा कि बिनीता ने खुद और परिवार की सुरक्षा के लिये ऐसा कदम उठाया. उसके स्थान पर कोई भी रहता तो यही करता. पुलिस पूरे मामले की छानबीन कर रही है. बिनीता को हर संभव सहायता और सुरक्षा दी जाएगी.

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here