झारखंड सरकार के वित्त एवं खाद्य-आपूर्ति मंत्री द्वारा मनोनीत सदस्य सह मनिका विधानसभा अध्यक्ष को फोन पर प्रखंड खाद्य-आपूर्ति पदाधिकारी सह प्रखण्ड विकास पदाधिकारी ने दी जान से मरवाने की धमकी….

[URIS id=45547]

झारखंड सरकार के वित्त एवं खाद्य-आपूर्ति मंत्री द्वारा मनोनीत सदस्य सह मनिका विधानसभा अध्यक्ष को फोन पर प्रखंड खाद्य-आपूर्ति पदाधिकारी सह प्रखण्ड विकास पदाधिकारी ने दी जान से मरवाने की धमकी….

NEWSTODAY बरवाडीह:-झरखण्ड सरकार के वित्त एवं खाद्य आपूर्ति मंत्री द्वारा कोविड-19 के दौरान लोगों को जन वित्तरण प्रणाली केंद्र के द्वारा खाद्यान्न मिले, उसके लिए मनोनीत सदस्य सह मनिका विधानसभा अध्यक्ष ने बरवाडीह प्रखण्ड विकास पदाधिकारी दिनेश कुमार के ऊपर गाली-गलौज एवं जान से मरवाने की धमकी देने की लिखित आवेदन बरवाडीह थाना में देकर प्रखण्ड विकास पदाधिकारी के खिलाफ शिकायत दर्ज कराई है।
बरवाडीह पुलिस प्रशासन मामले की जांच करते हुए अग्रेतर कार्यवाई में जुट गई है।

प्रिंन्स गुप्ता ने पुलिस को दिए शिकायत आवेदन में कहा है मुझे कोविड-19 के मद्देनजर झरखण्ड सरकार वित्त एवं खाद्य-आपूर्ति मंत्री महोदय रामेश्वर उरांव के आदेशानुसार सरकारों योजनाओं के निगरानी हेतु मनोनीत किया गया है। मंत्री के आदेशानुसार मै लगातार बरवाडीह प्रखण्ड में संचालित जन वित्तरण प्रणाली दुकानों का निगरानी कर रहा हूँ।इसी क्रम में दिनांक 05/05/2020 को बरवाडीह प्रखंड,खुरा पंचायत में स्थित ग्राम बभन्डीह में इकबाल सिंह के जन वित्तरण प्रणाली की दुकान पर पहुँचा तो कहा लाभुकों को कम राशन देने का मामला प्रकाश में आया।इसकी जांच मैंने अपने स्तर से निष्पक्षता एवं पारदर्शिता के साथ वीडियो बनाते हुए लाभुकों एवं डीलर के सामने ही किया।जिसमें पाया कि लाभुकों को 40 किलो की जगह 36 किलो 400 ग्राम राशन दिया जा रहा है।

ये भी पढ़े।

 

झारखंड में एक दिन मे 22 नए मामले कोरोना के-संख्या पहुंचा 154 पर

गुप्ता ने बरवाडीह पुलिस प्रशासन को दिये लिखित आवेदन में कहा है कि डीलर इकबाल सिंह की शिकायत करने हेतु मैंने प्रखण्ड आपूर्ति पदाधिकारी सह प्रखण्ड विकास पदाधिकारी बरवाडीह दिनेश कुमार फ़ोन किया तो वह मेरी शिकायत सुनने के बजाए,मुझे गाली-गलौज करते हुये,जान से मारने की धमकी देने लगेइससे पूर्व भी वीडियो दिनेश कुमार द्वारा मुझे जान से मरवाने की धमकी एवं अभद्र व्यवहार करते रहे है।वीडियो द्वारा दिये गए धमकी से जान का खतरा है।जब कभी भी मैं सरकारी योजनाओं में हो रही भ्रष्टाचार के खिलाफ भुक्तभोगी के साथ वीडियो से मुलाकात किये है तो समस्याओं का समाधान करने के बजाय वो मुझे धमकी देते रहे है। मैंने वीडियो के खिलाफ आवेदन के साथ-साथ उनके और मेरे टेलोफोनिक बातचीत की एक ऑडियो सीडी भी पुलिस को उपलब्ध कराई है।वही इस मामले पर प्रखण्ड विकास पदाधिकारी सह एमओ दिनेश कुमार ने कहा हमारे ऊपर लगाए गए आरोप बेबुनियाद है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here