• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

कोरोना ने तोड़ दी है किसानो की कमर-लाखो कमाने वाले इस कोरोना काल में पड़े हैं बेकार

1 min read

कोरोना ने तोड़ दी है किसानो की कमर-लाखो कमाने वाले इस कोरोना काल में पड़े हैं बेकार

NEWS TODAY हजारीबाग –  कोरोनावायरस ने किसानो के खेती पर भी बहुत असर किया हैl लाखो की खेती बर्बाद हो चुकी है या हो रही हैl इसी बीच जायके का स्वाद और सुंदरता बढ़ाने वाले धनिया के पत्ते कोरोना के चलते खेतों में ही सड़-गल रहे हैंl इसकी खेती कर लाखों कमाने वाले किसान बेहद परेशान हैंl लॉकडाउन के चलते इचाक के किसान धनिया के पत्तों को बाजार में नहीं उतार पा रहे हैं. यहां से देश के विभिन्न राज्यों के अलावा विदेशों में भी धनिया के पत्ते की सप्लाई होती रही हैl

ये भी पढ़े- जिंदा और स्वस्थ हैं किम जोंग-उन- साउथ कोरिया ने किया दावा
बताते चले कि इचाक प्रखंड में हर साल पांच सौ से ज्यादा एकड़ में धनिया पत्ते की खेती की जाती हैl किसान इससे अच्छा मुनाफा कमाते हैंl लेकिन इस बार कोरोना वायरस ने यहां के किसानों की किस्मत बिगाड़ दी हैl लॉकडाउन के कारण यहां के किसान धनिया के पत्ते को बाजार तक नहीं भेज पा रहे. लिहाजा धनिया की पत्ते अब खेत में ही सड़ने लगे हैंl

किसान इंद्रदेव महतो ने बताया कि वे लोग हर साल धनिया के पत्ते बेचकर 5 से 6 लाख रुपये तक कमा लेते थे. लेकिन इस बार खेती की लागत भी नहीं निकलने वाली है. ऐसे में क्या करें, क्या न करें कुछ समझ में नहीं आ रहा हैl
किसान अशोक मेहता के मुताबिक इचाक का धनिया पत्ता न सिर्फ देश के विभिन्न राज्यों बल्कि विदेशों तक जायके का स्वाद बढ़ाता आया है. यहां से इसका करोड़ों रुपए का व्यापार हर साल होता था. लेकिन इस बार लॉकडाउन के कारण सप्लाई ठप हो गई है. ऐसे में मुनाफा की बात छोड़िए, किसानों की पूंजी भी खतरे में हैl

Leave a Reply

Your email address will not be published.