काम-धंधा बंद होने से पश्चिम बंगाल के मजदूर हुए खाने पीने के मोहताज- मुखिया ने बढ़कर की मदद

काम-धंधा बंद होने से पश्चिम बंगाल के मजदूर हुए खाने पीने के मोहताज- मुखिया ने बढ़कर की मदद

NEWS TODAY(संवाददाता- विवेक चौबे)गढ़वा : कोरोना वायरस से उत्पन्न महामारी को लेकर झारखण्ड सरकार के द्वारा लॉक डाउन कर दिया गया है, जिससे सबका धंधा भी बंद हो गया है। सरकार के निर्देश का पालन यहां बड़ी सख्ती से किया जा रहा है। बता दें कि पश्चिम बंगाल के 12 मजदूर कांडी में पोखरा पर स्थित मंदिर के पास रहते हैं। उनका मुख्य व्यवसाय ड्रम व बक्सा बनाकर गांव-गांव घूमकर बेचना है। लॉक डाउन के कारण उनका व्यवसाय इस समय बंद है,जिससे वे खाने-पीने के लिए भी मोहताज हो चुके हैं। इस स्थिति में उक्त सभी मजदूरों ने कांडी मुखिया- विनोद प्रसाद के पास पहुंचा। पहुंचकर खाने-पीने की समस्या से उन्हें अवगत कराया। इस स्थिति में मुखिया- विनोद प्रसाद ने एक बड़ा दिल दिखाते हुए एक क्विंटल चावल व 500 रुपए उन्हें नगद देकर आर्थिक मदद की। उक्त सभी बातों की जानकारी विनोद प्रसाद ने दी। उन्होंने कहा कि उक्त सभी मजदूर कांडी में गत 3-4 वर्षों से रहकर ड्रम व बक्सा बनाने का काम करते हैं। लॉक डाउन में न ही उनका व्यवसाय चल रहा है,न ही इस समय वे घर जा सकते हैं। साथ ही उन्होंने कहा कि मेरे पंचायत में कोई भी व्यक्ति भूखे नहीं रहेंगे। यदि किसी को कोई दिक्कत भी हो तो फौरन मुझे बताएं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here