कमर्शियल माइनिंग सहित अन्य मांगों के लिए  दुसरे दिन जगह-जगह विरोध प्रदर्शन…

0
[URIS id=45547]

NEWSTODAYJ धनबाद : कोयला उद्योग में कॉमर्शियल माइनिंग के विरोध में केंद्रीय श्रमिक संगठनों की तीन दिवसीय हड़ताल दूसरे दिन में प्रवेश कर गया है। शुक्रवार को दूसरे दिन भी हड़ताल का असर दिख रहा है। धनबाद कोयलांचल में बीसीसीएल और ईसीएल की खदानों में काम-काज प्रभावित है। इससे पहले गुरुवार को पहले दिन हड़ताल असरदार रही। बीसीसीएल समेत कोल इंडिया की सहयोगी इकाइयों में खासा असर रहा। डब्ल्यूसीएल में सर्वाधिक, तो ईसीएल में आंशिक असर देखा गया।

यह भी पढ़े…

धनबाद : बालू माफियाओं पर पुलिस का शिकंजा , बालू से लदे ट्रैक्टर जप्त…

कोल इंडिया स्तर पर 28.73 फीसद कर्मचारी ही उपस्थित रहे। कोलकाता स्थित कोल इंडिया मुख्यालय में अन्य दिनों की अपेक्षा अधिक कर्मचारी मौजूद रहे। बीसीसीएल मुख्यालय कोयला भवन में 90 फीसद कर्मचारी उपस्थित रहे और कामकाज सामान्य दिनों की तरह चला।बीसीसीएल में स्थिति : बीसीसीएल में पहले दिन हड़ताल के कारण 6200 टन कोयला उत्पादन हुआ। ओबी का उत्पादन 42042 टन हुआ। इस दौरान 11,287 टन कोयला डिस्पैच किया गया। बीसीसीएल में 23 आउटसोर्सिंग कंपनियां कार्यरत हैैं। इनमें 19 से उत्पादन हो रहा है। इनमें 10 से उत्पादन हुआ। हालांकि वहां भी उत्पादन प्रभावित होता रहा।कमर्शियल माइनिंग ,100 प्रतिशत एफडीआइ ,सी एम पी डी आई को कॉल इंडिया से अलग करने एवं कोल ब्लॉक के नीलामी आदि के विरोध में संयुक्त मोर्चा द्वारा आहूत तीन दिवसीय हड़ताल के दुसरे दिन भी हड़ताल के पहले दिन झरिया के विभिन्न कोलियरीओ में मोर्चा के नेता डटे हुए हैं।

यह भी पढ़े…

प्रतिबंधित गुटखा 407 से 10 बोरा बरामद पुलिस ने की छापेमारी , एक गिरफ्तार…

मोर्चा के नेताओं ने कहा कि केंद्र सरकार मजदूर विरोधी है और मजदूरों का शोषण कर रही है , वहीं सरकार के द्वारा मजदूर विरोधी कानून जैसे कमर्शियल माइनिंग,50 कोल ब्लोक की नीलामी ,100 एफ डी आई एवं सी एम पी डी आई को कॉल इंडिया से अलग करने का साजिश रच रहा है जिसके विरोध में आज से तीन दिवसीय हड़ताल किया जा रहा है, हड़ताल के आज दुसरे दिन सभी कोलियरी पूर्णत: बंद है, यदि सरकार के द्वारा काला कानून वापस नहीं लिया गया तो हम लोग का आंदोलन और भी उग्र होगा।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here