• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

एक सर्वे के अनुसार अधिकतर अभिभावक बच्चों की क्लासरूम की कक्षाएं अभी शुरू करने के पक्ष में नहीं

1 min read

एक सर्वे के अनुसार अधिकतर अभिभावक बच्चों की क्लासरूम की कक्षाएं अभी शुरू करने के पक्ष में नहीं

NEWSTODAYJ  धनबाद – धनबाद पब्लिक स्कूल के द्वारा अभिभावकों के बीच फीडबैक सर्वे की शुरुआत की गई जिसमें कोरोना के कारण अधिकतर अभिभावक बच्चों की क्लासरूम की कक्षाएं अभी शुरू करने के पक्ष में नहीं हैं। आपको बतादें कि 56.5 फीसदी अभिभावकों ने अभी क्लास शुरू करने से इनकार कर दिया है। क्लास कब से शुरू किया जाए के जवाब में 75.8 फीसदी अभिभावकों ने कहा कि सरकार के आदेश मिलने के बाद शुरू करें। 56.3 फीसदी ने चार घंटे व 26 फीसदी ने पांच तथा 17.7 फीसदी छह घंटे स्कूल अवधि निर्धारित करने का सुझाव दिया है।

छात्रों को स्कूल कैसे आना चाहिए? प्रश्न के जवाब में सबसे अधिक 42.8 फीसदी ने कहा कि लॉकडाउन के बाद वे पहले जैसे ही आना चाहते हैं। 33.5 फीसदी ने कहा कि प्राइवेट वाहनों को बेहतर विकल्प तो 23.7 ने बस का उत्तर दिया है। महत्वपूर्ण यह है कि 53.9 फीसदी अभिभावक चाहते हैं कि वर्तमान माहौल में बच्चे को सप्ताह में तीन दिन ही बुलाया जाए। 26.4 फीसदी बच्चों को सप्ताह में दो बार भेजना चाहते हैं। 81.4 फीसदी अभिभावकों ने क्लासरूम को सोशल डिस्टेंस का पालन करते हुए संचालित करने में अपनी सहमति दी है। 18.6 फीसदी खुली जगह में कक्षाएं आयोजित करने के लिए कह रहे थेl

ये भी पढ़े….

बोकारो: गोमिया में पाए गए कोरोना संक्रमितों के पारिवारिक सदस्यों को किया गया क्वारेंटीन, संबंधित इलाका हुआ सील

बताते चले कि अभिभावकों से 10 प्रश्न पूछते हुए फीडबैक मांगा गया था। 1105 अभिभावकों ने स्कूल को ऑनलाइन सुझाव भेजा है। 65.4 फीसदी अभिभावकों ने कहा कि एक सीट पर एक बच्चा, 30 फीसदी ने कहा कि क्षमता के मुकाबले आधे बच्चों को लाया जाए। 4.6 फीसदी ने कहा कि सीट के अनुसार भेजना पसंद करेंगे। स्कूल फिर से खुलता है तो फर्स्ट फेज में स्कूल में कितनी कक्षाएं होनी चाहिए? 43.8 फीसदी अभिभावक पहले चरण में नौवीं से 12वीं कक्षा के बच्चों को स्कूल भेजने के पक्ष में है। 34.7 फीसदी का कहना है कि सिर्फ 10वीं व 12वीं क्लास, 12 फीसदी नर्सरी से फाइव तथा 9.5 फीसदी कक्षा छह से आठ के बच्चों को स्कूल भेजना चाहते हैं। 52 फीसदी अभिभावकों ने अपने सुझाव भेज यह भी स्पष्ट कर दिया है कि क्लासरूम में क्षमता के आधे बच्चों को ही बिठाना चाहिए। 39.2 फीसदी ने क्षमता के एक तिहाई व 8.8 फीसदी सभी बच्चों को क्लास में बिठाने के पक्ष में है।

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.