उपायुक्त की पहल पर पी.आर.सी.ए. से पीड़ित देबोस्मिता को मिली 4 लाख रूपये की सहायता।

धनबाद।

उपायुक्त की पहल पर पी.आर.सी.ए. से पीड़ित देबोस्मिता को मिली 4 लाख रूपये की सहायता।

धनबाद। धनबाद के उपायुक्त अमित कुमार की पहल पर झरिया के पोद्दार पाड़ा निवासी रिता दत्ता एवं निर्मल दत्ता की 5 वर्षीय पुत्री देबोस्मिता के ईलाज के लिए 4 लाख रुपए की सहायता प्रदान की जा रही है। रिता दत्ता एवं निर्मल दत्ता ने झारखंड अस्मिता जागृति मंच के अध्यक्ष रंजीत परमार के साथ उपायुक्त से मुलाकात कर उनकी 5 वर्षीय पुत्री की बीमारी के संबंध में बताया। उन्होंने उपायुक्त को बताया कि उनकी 5 वर्षीय पुत्री देबोस्मिता शुद्ध लाल कोशिका अप्लासिया (पी.आर.सी.ए.) से पीड़ित है। उसका ईलाज क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज वेल्लोर में चल रहा है। देबोस्मिता को शुद्ध लाल कोशिका अप्लासिया से बचाने के लिए बोन मैरो ट्रांसप्लांट की आवश्यकता है। माता पिता की व्यथा को सुनकर उपायुक्त ने सिविल सर्जन को फोन लगा कर देबोस्मिता के ईलाज के लिए असाध्य रोग के अंतर्गत 4 लाख रुपए की सहायता राशि तत्काल प्रदान करने एवं निर्मल दत्ता का मोबाइल नंबर देकर उनके साथ समन्वय स्थापित करने का निर्देश दिया। इस अवसर पर झारखंड अस्मिता जागृति मंच की ओर से रिता दत्ता एवं निर्मल दत्ता को 43,050 रुपए का डिमांड ड्राफ्ट क्रिश्चियन मेडिकल कॉलेज वेल्लोर के नाम से उपायुक्त के द्वारा दिया गया। इस अवसर पर झारखंड अस्मिता जागृति मंच के अध्यक्ष रंजीत परमार, उपाध्यक्ष मो. मोइन रजा, नितुल रावल, संजय रवानी, संजय पंडित व अन्य लोग उपस्थित थे। रंजीत परमार ने बताया कि देबोस्मिता के इलाज के लिए 35 लाख रुपए का खर्च है। उपायुक्त की पहल पर 4 लाख रुपए मिलने से परिवार को काफी राहत महसूस होगी। उपायुक्त की पहल के लिए रिता दत्ता एवं निर्मल दस्ता ने भी उपायुक्त को कोटी कोटी धन्यवाद दिया। उल्लेखनीय है कि शुद्ध लाल कोशिका अप्लासिया (पी.आर.सी.ए.) या एरिथ्रोब्लास्टोपेनिया एक प्रकार का एनीमिया है जो लाल रक्त कोशिकाओं के अग्रदूतों को प्रभावित करता है लेकिन सफेद रक्त कोशिकाओं को नहीं। शुद्ध लाल कोशिका अप्लासिया से ग्रसीत मरीज में बोन मैरो लाल रक्त कोशिकाओं का उत्पादन बंद कर देता है।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here