• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

इथियोपिया के पीएम अबी अहमद को मिला इस साल शांति का नोबेल पुरस्कार। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर…….

1 min read

ओस्लो।

इथियोपिया के पीएम अबी अहमद को मिला इस साल शांति का नोबेल पुरस्कार। क्लिक कर पढ़ें पूरी खबर…….

ओस्लो। 2019 में शांति के लिए नोबल पुरस्कार इथियोपिया के प्रधानमंत्री अबी अहमद अली को दिया जाएगा। बताते चलें कि विभिन्न क्षेत्रों में असाधारण कामों के लिए हर साल नोबेल पुरस्कार दिया जाता है। वहीं इस वर्ष 2019 के नोबल पुरस्कारों दिए जाने का सिलसिला जारी है। आपको बताते चलें कि अली को अंतरराष्ट्रीय सहयोग प्राप्त करने के उनके प्रयासों, खासतौर से पड़ोसी मुल्क इरिट्रिया के साथ सीमा संघर्ष को हल करने को लेकर उनकी निर्णायक पहल के लिए नोबेल शांति पुरस्कार से नवाजे जाने का ऐलान किया गया। प्रतिष्ठित नोबेल शांति पुरस्कार के लिए नाम का ऐलान होने से पहले कई नामों पर जोरदार चर्चा चल रही थी, इसमें 16 वर्षीय स्वीडिश जलवायु कार्यकर्ता ग्रेटा थुनबर्ग का नाम भी शामिल था। इसके अलावा जर्मन चांसलर एंजेला मर्केल और हांगकांग में कार्यकर्ताओं का नाम भी सामने आ रहा था। हालांकि नोबेल पुरस्कार समिति ने सभी को चौंकाते हुए इथियोपिया के प्रधानमंत्री अबी अहमद अली को 2019 के शांति के नोबेल पुरस्कार के नाम का ऐलान किया। इथियोपिया अफ्रीका का दूसरा सबसे घनी आबादी वाला देश है और पूर्वी अफ्रीका का सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था वाला देश है।

वहीं आपको बताते चलें कि अबी अहमद अली पिछले साल अप्रैल में इथियोपिया के प्रधानमंत्री बने और उन्होंने पद संभालते ही यह साफ कर दिया था कि वह इरिट्रिया के साथ शांति वार्ता को जारी रखेंगे। उन्होंने इरिट्रिया के राष्ट्रपति इसाइस अफवर्की के साथ शांति पर लगातार चर्चा की और नो पीस, नो वार सिद्धांत पर समझौता किया। दोनों देशों के शीर्ष नेताओं ने इस साल जुलाई और सितंबर में दोनों देशों में शांति समझौतों का ऐलान किया।

NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.