आरपीएसएफ आईजी निरक्षण के लिए धनबाद पहुचीं

0
195

न्यूज टुडे

झारखंड बिहार



धनबाद।

प्रिंसिपल चीफ सेक्रेटरी जया वर्मा निरक्षण के लिए धनबाद पहुंचे थे।

धनबाद। रेलवे सुरक्षा बल में अगर कोई दंपत्ति अलग अलग डिवीजन में कार्यरत है तो उन्हें अब एक ही डिवीजन में मिचुअल ट्रांसफर के तहत काम करने का लाभ मिलेगा। इसका यह फायदा होगा की एक ही जगह पर पति पत्नी साथ रह कर काम कर पाएंगे। उक्त बातें आरपीएसएफ आईजी सह रेलवे बोर्ड दिल्ली की प्रिंसिपल चीफ सेक्रेटरी जया वर्मा ने आज धनबाद में कही।

निरक्षण के लिए धनबाद पहुंचे थे।

निरिक्षण में आरपीएसएफ 10 बटालियन धनबाद में सुविधाओं की जानकारी लेने पहुँची थी। यहाँ बैरक में आरओ वाटर मशीन का उद्घाटन किया। बैरक में जवानो के रेस्टरूम , पलंग , पानी की व्यवस्था , स्टाफ की सुविधा आदि की जानकारी ली। अपने निरिक्षण में उन्होंने यहाँ की सारी व्यवस्था माकुल पाई।

क्या कहा गया  आरपीएसएफ आईजी  ने।

सम्मेलन से पूर्व पत्रकारों से बातचीत में कहा कि डीआरएम मनोज कृष्ण अखोरी के साथ वार्ता हुई है जिसमे 100 बेड का नया बैरक बनाने की हामी भरी है। उक्त बैरक आरपीएसएफ को दिया जायेगा। हाल ही में एक बैरक तैयार किया गया था जिसे आरपीएफ को मिला है।किसी भी बड़ी दुर्घटनाओं में सुरक्षा के मद्देनजर आरपीएसएफ जवानो को ड्यूटी पर लगाया जाता है तो तय स्थानों पर जवानो के रहने की असुविधाओं की बात सामने आती है। इसपर डीआरएम के साथ सकारात्मक वार्ता हुई है जिसमे उन्हें उस परिस्थिति में रहने की विशेष व्यवस्था मिलेगी। बटालियन को हर स्तर पर बेहतर करना यात्री सुरक्षा को सुदृढ़ करना आरपीएसएफ की प्राथमिकता है। उन्होंने बताया कि समय समय पर आरपीएसएफ में पदोन्नति भी दी जा रही है। मेन पावर की कमी को दूर किया जायेगा। आरपीएसएफ की कार्यशैली अच्छी है। पहले की तुलना में बहाली में भी बदलाव हुए है। अब नए नियम के तहत आरपीएसएफ जवान आरपीएफ में नहीं जा सकेंगे। हर त्योहारों में जवानो को छुट्टी देना मुमकिन नहीं।

जवान जब इस पेशे में आते है तभी एक समझौता हो जाता है कि बॉर्डर पर तैनात जवानों की तरह ही आरपीएसएफ के जवान भी त्योहारों में यात्री सुरक्षा के मद्देनजर ड्यूटी पर रहेंगे।

समय समय पर बहन की शादी या फिर आपात काल की स्थिति में छुट्टियां दी जाती है। इसके लिए अलग से कमीटी भी बना दी गई है। अब छुट्टियां कोमिटी ही तय करती है और यह जवानो के आपसी समन्वय से पूरा होता है। 182 पर कॉल करके यात्री सुरक्षा हेतु मदद ले रहे है इसका रिस्पॉन्स भी आ रहा है।

आरपीएसएफ इस दिशा में त्वरित कार्रवाई कर रही है। आईजी इससे पूर्व चितरंजन में आरपीएसएफ 8 बटालियन के बैरक का भी निरिक्षण किया एवं जवानो के साथ सुरक्षा सम्मेलन में अपना संबोधन दिया।

रखे आप के आस पास के खबरो से आप को आगे &newstodayjharkhand@gmsil.com watsaap9386192053

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here