आदिवासी का दर्जा देने की मांग को लेकर 23 अप्रैल को झारखण्ड बंद

न्यूज टुडे

झारखंड बिहार



धनबाद।

Capture 2021-07-28 22.36.12
Capture 2021-08-17 12.13.14 (1)
Capture 2021-08-06 12.06.41
Capture 2021-08-19 12.34.03
Capture 2021-07-29 11.29.19
Capture 2021-08-17 14.20.15 (1)
Capture 2021-08-10 13.15.36
Capture 2021-08-05 11.23.53
Capture 2021-09-09 09.03.26
Capture 2021-09-16 12.44.06

कुड़मी को आदिवासी का दर्जा देने की मांग।

गोमो :
मनोज स्वर्णकार।

कुड़मी को आदिवासी का दर्जा देने की मांग को लेकर 23 अप्रैल को झारखण्ड बंद के समर्थन में पूर्व जिप उपाध्यक्ष संतोष कुमार महतो के नेतृत्व में कुडमी समाज के सैंकड़ों लोगों ने रविवार की शाम तोपचांची मानटांड से मशाल जुलुश निकालकर सुभाष चौक होते हुए सुभाष चौक पहुंचा।

जंहा संतोष महतो ने बंदी को समर्थन देते हुए कहा की कुडमी को आदिवासी का दर्जा देने की मांग पूर्णतः न्यायसंगत है।

और इसके लिए हम हर संघर्ष के लिए पूरी तरह से तैयार हैं उन्होंने कहा कि आज पूरे प्रदेश में कुडमी समाज की आबादी सबसे अधिक है इसके बावजूद वह सबसे ज्यादा उपेक्षित रहे हैं।

झारखंड अलग राज्य के आंदोलन में कुडमी जाति के लोगों ने सबसे ज्यादा बलिदान दिया है।

देश की आजादी से लेकर अलग राज्य के संघर्ष तक कुडमी जाति का योगदान सराहनीय रहा है जिसे कोई भी नकार नहीं सकता है।

उन्होंने दावा किया कि कल की झारखण्ड बंदी ऐतिहासिक होगी

अन्य लोगों ने कहा कि हम अपनी पुरानी मांग को लागू करने की मांग कर रहे हैं।

हमारा मकसद किसी के अधिकार को छीनना नहीं है बल्कि हमें अपना अधिकार चाहिए।

और इसके लिए हम हर आंदोलन को तैयार हैं । हमारा यह आंदोलन आगे तबतक जारी रहेगा।

जबतक हमारी मांगो को पूरा नही कर दिया जाता चाहे हमे जो भी कुर्बानी देनी पड़े, हम तैयार हैं । साथ ही लोगों ने आक्रोश जताते हुए कहा कि जो भी नेता कुडमी समाज की कल की बंदी में हमारा साथ नहीं देंगे उनका सामूहिक बहिष्कार चुनाव के वक्त किया जाएगा ।

रखे आप को आप के आस पास के खबरों से आप को आगे,newstodayjharkhand.com watsaap 9386192053

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here