आदर्श क्वारंटाइन सेंटरों में प्रवासियों का हंगामा, अधिकारियों के आश्वासन पर माने लोग, बोले-व्यवस्था करें या होम क्वारंटाइन कर दें

आदर्श क्वारंटाइन सेंटरों में प्रवासियों का हंगामा, अधिकारियों के आश्वासन पर माने लोग, बोले-व्यवस्था करें या होम क्वारंटाइन कर दें….

क्वारंटाइन सेंटर में कम भोजन एवं युवतियों, महिलाओं के लिए अलग शौचालय की मांग, प्रशासनिक अव्यवस्था उजागर, कुव्यवस्था के कारण लगातार हो रहा हंगामा, प्रशासन बना उदासीन।

NEWSTODAYJ:बोकारो:गोमिया/ परेशानी झेल कर दूसरे प्रदेशों से घर पहुंचे लोगों की मुश्किलें अब भी कम नहीं हो रही है। देश के 24 रेड जोन जिलों से घर पहुंच रहे प्रवासियों को कोरोना संक्रमण को लेकर लोगों को क्वारेंटाइन सेंटर में रखा जा रहा है। लेकिन लोगों को यहां सुविधा देने के नाम पर खानापूर्ति को लेकर क्वारेंटाइन सेंटर में रह रहे लोग अव्यवस्था को लेकर बराबर हंगामा कर रहे हैं।बावजूद व्यवस्था में सुधार नहीं हो रहा है। शुक्रवार रात को कम खाना एवं क्वारेंटाइन सेंटर में स्वच्छता के अभाव को लेकर प्रवासी मजदूरों ने गोमिया आदर्श क्वारंटाइन सेंटर में हंगामा किया। गोमिया सीओ ओपी मंडल द्वारा भोजन में बढोत्तरी की समझाइश के बाद प्रवासियों ने भोजन भोजन स्वीकार किया। बाहर से आए प्रवासी मजदूरों का कहना है कि या तो प्रशासन बेहतर व्यवस्था कराए या फिर सबको होम क्वारेंटाइन करे। गोमिया के डीएवी जूनियर विंग्स, कला सांस्कृतिक भवन ललपनिया, चतरोचट्टी अतिरिक्त प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र क्वारंटाइन सेंटर में महिलाओं के लिए अलग बाथरूम की व्यवस्था को लेकर हंगामा किया। अव्यवस्था के विरोध में प्रशासनिक अधिकारियों को मौखिक शिकायत कर रहे है

ये भी पढ़े।

अज्ञात वाहन के चपेट में आने से घटनास्थल पर मौत ही 2 की मौत

वहींकई पंचायत भवनों सहित सरकारी भवनों क्वारंटाइन सेंटरोंं पर व्यवस्था करने की बजाय पुलिस बल के प्रयोग का आरोप भी प्रवासियों ने लगाया है।सैम्पलिंग में शिथिलता व रिपोर्ट में देरी का भी आरोप.गोमिया आदर्श क्वॉरेंटाइन सेंटर में प्रवासियों का यह भी आरोप है की यहां प्रवासियों की संख्या ज्यादा है। भोजन व स्वच्छता की अव्यवस्था तो है ही इसके अलावा न तो लोगों के सैंपलिंग की जा रही है ना तो पूर्व में हुए सैंपल की जांच रिपोर्ट अबतक आ पाई है। जिस कारण लोगों को छोड़ा भी नहीं जा रहा है।

लोग जा रहे हैं क्वारंटाइन छोड़कर

गोमिया के सुदूरवर्ती ग्रामीण क्षेत्रों के क्वारेंटाइन सेंटर में जिन प्रवासियों को रखा जा रहा है एक से दो दिन तो रुकने के बाद, लेकिन पंचायत प्रतिनिधि द्वारा उनके खाने पीने का इंतजाम नहीं किया गया तो वह बेवसी में अपने घर चले गए। दो दिन पहले भी तीन लाेग आए थे उन्हें जब खाना नहीं मिला तो वह भी होम क्वारेंटाइन में रहने के लिए चले गए हैं। इससे पहले भी कई लोग जो बाहर से आए थे जिन्हें चेकअप के बाद स्वास्थ्य विभाग ने क्वारेंटाइन सेंटर में भेजा था वह 14 दिन रहने की बजाय एक या दो दिन बाद ही अपने अपने घर चले गए हैं। इस संबंध में ग्रामीण ने पंचायत के मुखिया से लेकर, गोमिया सीओ, एसडीएम बेरमो तक शिकायत की है।नप में घोषित पंचायत स्तर पर बने सेंटर खाली गोमिया नगर परिषद के लिए पूर्व में घोषित 36 पंचायतों में आठ पंचायत हैं जिनमें पंचायत स्तर पर प्रशासन ने क्वारेंटाइन सेंटर बनाकर पंचायत के जनप्रतिनिधि को जिम्मेदारी सौंपी है। इसकी देखरेख मुखिया के हाथों में है, लेकिन स्थिति यह है कि पंचायत स्तर पर कुछेक को छोड़ दिया जाए तो सभी क्वारेंटाइन सेंटर खाली पड़े हैं।बेरमो एसडीओ नीतीश कुमार सिंह ने

ये भी पढ़े।

नशे की हालत में मार पीट: एक युवक हुआ लहू लोहान:थाने में मामला दर्ज

गोमिया आदर्श क्वारंटाइन में प्रतिनियुक्त कर्मचारियों को उक्त सेंटर पर सरकार की गाइडलाइन के तहत हर सुविधा बहाल करने का निर्देश देते हुए कहा कि इस मामले में किसी तरह की कोताही बर्दाश्त नहीं की जाएगी। होम क्वारंटाइन का कुछ लोगों की शिकायत इसलिए भी हैं क्योंकि वे आगामी पर्व ईद अपने परिजनों के साथ मनाना चाहते हैं। यदि इस तरह की शिकायत हैं तो उन्हें संज्ञान में लेकर कार्रवाई करने का आश्वासन दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here