आंकड़े बता रहे हैं झारखण्ड में कोरोनावायरस की रफ़्तार, राष्ट्रीय वृद्धि दर से ज्यादा

आंकड़े बता रहे हैं झारखण्ड में कोरोनावायरस की रफ़्तार, राष्ट्रीय वृद्धि दर से ज्यादा

NEWS TODAY झारखण्ड के लिए सूबे में बढ़ते कोरोनावायरस के मामले अब चिंता का विषय हो गया हैl दूसरे प्रदेशों से प्रवासी झारखंडियों की घरवापसी तेज़ होने के साथ ही सूबे में कोरोना संक्रमण ने रफ्तार पकड़ ली है। यह रफ्तार पिछले एक हफ्ते के दौरान राष्ट्रीय औसत से भी ज्यादा हो गई है। चिंता की बात यह कि अब सूबे में मात्र 11 दिन में कोरोना के मरीजों की संख्या दोगुनी हो जा रही है।

पिछले सप्ताहांत (16 मई) को झारखंड की स्थिति संक्रमण के हर मानक पर देश के औसत से बेहतर थी। लेकिन पिछले एक सप्ताह में राज्य में मरीजों का ग्रोथ रेट (वृद्धि दर) डेढ़ गुना बढ़ोतरी के साथ 4.83 प्रतिशत से 6.1 प्रतिशत पर पहुंच गया है। वहीं राष्ट्रीय वृद्धि दर 5.4 है। मरीजों के दोगुना होने की दर भी झारखंड में पिछले सप्ताह राष्ट्रीय औसत 13.30 प्रतिशत के मुकाबले 14.7 प्रतिशत पर था। यानी राष्ट्रीय स्तर पर जहां 13 दिन में मरीज दोगुना हो रहे थे, वहीं झारखंड में 14.7 दिन में।

ये भी पढ़े…

कोविड-19 से झारखण्ड में चौथी मौत- संक्रमितों का आंकड़ा 350 पहुंचा

इस सप्ताहांत झारखंड में जहां महज 11.6 दिन में ही मरीज दोगुना हो रहे हैं, वहीं राष्ट्रीय दर 13.1 पर स्थिर है। सूबे में मरीजों की रिकवरी रेट भी पिछले सप्ताह की तुलना में कम हुई है। बावजूद इसके रिकवरी और डेथ रेट में हम नेशनल रेट से बेहतर स्थिति में हैं। इस सप्ताह नेशनल रिकवरी रेट जहां 40.9 फीसदी है, वहीं झारखंड की रिकवरी रेट 44.20 प्रतिशत है। हालांकि पिछले सप्ताह के 52 प्रतिशत की तुलना में झारखंड 12 अंक नीचे गिरा है। दूसरी तरफ डेथ रेट में झारखंड पिछले सप्ताह के 1.38% के मुकाबले इस सप्ताह महज 0.97% है। इधर अब रांची में कोरोना के मात्र 15 एक्टिव केस रह गए हैं। प्रति लाख आवादी पर एक्टिव केसों की सूची में रांची झारखंड में पांचवें स्थान पर है। वहीं संख्या के आधार पर पॉजिटिव मिलने वालों की सूची में रांची रांची छठे स्थान पर आ गया  है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here