• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

अस्ताचलगामी सूर्य को दिया गया अर्घ्य, छठ घाटों पर उमड़ी भारी भीड़, सुरक्षा के देखे गए पुख्ता इंतजाम

1 min read

(धनबाद)

अस्ताचलगामी सूर्य को दिया गया अर्घ्य, छठ घाटों पर उमड़ी भारी भीड़, सुरक्षा के देखे गए पुख्ता इंतजाम…..

धनबाद:छठ को लेकर बिहार और झारखंड समेत देश के अन्य हिस्सों में भारी उत्साह है. आज सभी छठ घाटों पर अस्ताचलगामी सूर्य को अर्घ्य दिया गया. धनबाद के छठ घाटों में छठव्रतियों की भारी भीड़ जुटी. इस दौरान बेकारबांध , विकासनगर एवं मनईटांड़ छठ घाट पर भारी भीड़ उमड़ी. विधायक , राज सिन्हा , सांसद पीएन सिंह घाट पर मौजूद थे. उन्होंने सभी धनबाद वासियों को छठ की हार्दिक शुभकामनाएं दी हैं और सूर्यदेव से राज्‍य की खुशहाली की कामना की हैछठव्रतियों ने घाटों में सूर्य को पहला अर्घ्य दिया. छठ को देखते हुए प्रशासन ने विशेष व्यवस्था की है. सूर्योपासना के इस पर्व के धार्मिक दृष्टि से तो विशिष्ट माना ही जाता है, साथ ही इसे साफ सफाई एवं पर्यावरण की नजर से भी महत्वूपर्ण माना जाता है. जिसे देश के साथ विदेशों में कई जगहों पर पारंपरिक श्रद्धा एवं उल्लास के साथ मनाया जाता है. छठ पूजा में स्वच्छता का विशेष महत्व है. इसमें चढ़ाए जाने वाला प्रसाद पूरी तरह घर में ही बनाया जाता है, बाजार से खरीदे गये प्रसाद का उपयोग नहीं किया जाता. गेहूं के आटे और गुड़ को मिलाकर ठेकुआ बनाया जाता है. इसके साथ ही टिकरी भी बनाया जाता है. नयी सब्जियां और फलों से सूप सजाया जाता है. फिर घुटने भर पानी में खड़े होकर व्रति उस सूप से भगवान सूर्य को अर्घ्‍य देते हैं

प्रसादबनाने के लिए गेहूं को पूरी तरह से साफ किये गये चक्की में ही पिसावाया जाता है. इस पर्व पर खासतौर पर बनाया जाने वाला पकवान ठेकुआ होता है. इसके अलावा नारियल, मूली, सुथनी, अखरोट, बादाम, नारियल, इस पर चढाने के लिए लाल,पीले रंग का वस्त्र, एक बडा घडा जिस पर बारह दीपक लगे होते हैं. तीसरे दिन या छठ के दिन 24 घंटे का निर्जल व्रत रखा जाता है, सारे दिन पूजा की तैयारी की जाती है इस दिन अस्ताचलगामी सूर्य की उपासना की जाती है. अगले दिन सुबह व्रती सूर्योदय के समय पानी में खडे होकर सूर्य देव की आराधना करते है। तत्पश्चात पालन किया जाता है और इस प्रकार 36 घंटे का निर्जला उपवास प्राण के साथ खत्म हो जाता है।NEWSTODAYJHARKHAND.COM

Leave a Reply

Your email address will not be published.