• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

असम में अब सभी मदरसे और संस्कृत विद्यालय होंगे बंद-खोले जाएंगे नए स्कूल

1 min read

असम में अब सभी मदरसे और संस्कृत विद्यालय होंगे बंद-खोले जाएंगे नए स्कूल

NEWS TODAY- राज्य में संचालित सभी मदरसों और संस्कृत टोलों को बंद करने का निर्णय लिया असम सरकार ने लिया हैl बताते चले की राज्य में चल रहे धार्मिक स्कूलों को चार-पांच महीनों के भीतर नियमित हाई स्कूलों और उच्चतर माध्यमिक स्कूलों में बदल दिया जाएगाl  शिक्षा मंत्री हेमंत बिस्व शर्मा ने मीडिया के समक्ष इस फैसले की घोषणा कीl उन्होंने कहा कि धार्मिक उद्देश्यों के लिए धर्म, धार्मिक शास्त्र, अरबी और अन्य भाषाओं को पढ़ाना सरकार का काम नहीं हैl

ये भी पढ़े-फिरोजाबाद के आगरा-लखनऊ एक्सप्रेसवे फिर हुई एक बड़ी सड़क दुर्घटना-बस ने ट्रक को मारी टक्कर, 14 की मौत

उन्होंने कहा, “अगर कोई अपने पैसे का उपयोग करके धर्म सिखा रहा है तो कोई समस्या नहीं हैl लेकिन अगर कुरान को पढ़ाने के लिए राज्य के धन का उपयोग किया जाता है, तो हमें गीता, बाइबिल भी सिखाना होगाl उन्होंने कहा कि राज्य में संचालित सरकारी मदरसा, उच्च मदरसा और संस्कृत टोल जल्द ही नियमित स्कूलों में परिवर्तित हो जाएंगेl मदरसों और संस्कृत टोलों में काम करने वाले शिक्षक अपनी नौकरी से नहीं चूकेंगेl धार्मिक विषयों को पढ़ाने वाले शिक्षकों को घर बैठे ही सेवानिवृत्त होने तक वेतन मिलेगा, क्योंकि उन्हें स्कूलों में कुछ भी पढ़ाने की आवश्यकता नहीं होगी. अन्य विषयों के शिक्षक परिवर्तित सामान्य स्कूलों में अपने विषय पढ़ाना जारी रखेंगेl

मंत्री ने साफ कर किया कि केवल सरकार द्वारा संचालित धार्मिक स्कूलों को बंद किया जा रहा है. इसका अर्थ है कि मदरसे मस्जिदों द्वारा चलाए जाते हैं, गैर-सरकारी संगठनों आदि द्वारा संचालित संस्कृत विद्यालय इस कदम से प्रभावित नहीं होंगेl

 

 

Leave a Reply

Your email address will not be published.

ट्रेंडिंग खबरें