• झारखंड का उभरता न्यूज़ पोट्रल न्यूज़ टुडे झारखंड में आप के गली मोहलले के हर खबर अब आप के मोबाइल तक आप के गली मोहल्ले की हर खबर को हम दिखाएंगे प्रमुखता से हमारे न्यूज़ टुडे झारखंड के संवादाता से संपर्क करे,ph..No धनबाद, 9386192053,9431143077,93 34 224969,बोकारो,+91 87899 12448,लातेहार,+919546246848,पटना,+919430205923,गया,9939498773,रांची,+919334224969,हेड ऑफिस दिल्ली,+919212191644,आप हमें ईमेल पर भी संपर्क कर सकते है हमारा ईमेल है,NEWSTODAYJHARKHAND@GMAIL........झारखंड के हर कोने कोने की खबर अब आप के मोबाइल तक सबसे पहले आप प्ले सटोर पर भी न्यूज़ टुडे झारखंड के ऐप को इंस्टॉल कर सकते है हर तरह के वीडियो देखने के लिए सब्सक्राइब करे यूट्यूब पर NEWSTODAYJHARKHAND......विज्ञापन के लिए संपर्क करे...9386192053.9431134077

अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ ने शिक्षकों की गर्मी की छुट्टी को लेकर विभाग से स्पष्टीकरण कर पत्र जारी करने की अपील की

1 min read

अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ ने शिक्षकों की गर्मी की छुट्टी को लेकर विभाग से स्पष्टीकरण कर पत्र जारी करने की अपील की

NEWSTODAYJ – विभाग ने 17 मई से 14 जून तक गर्मी छुट्टी घोषित की गई है। अब तक यह आदेश जिला में प्रभावी नहीं हुआ है। अखिल झारखंड प्राथमिक शिक्षक संघ ने सोमवार को डीएसई इंद्रभूषण सिंह से मिलकर पूछा है कि प्राथमिक शिक्षकों की अभी गर्मी छुट्टी है या नहीं? अगर गर्मी छुट्टी है तो स्थानीय स्तर पर पत्र जारी कर उसे स्पष्ट करें अन्यथा हमें क्षतिपूर्ति अवकाश दें। शिक्षकों को स्कूलों, दंडाधिकारी का कार्य, प्रवासी मजदूरों को लाने, पीडीएस समेत अन्य जगहों पर काम करना पड़ रहा है। शिक्षक संघ प्रतिनिधियों ने एडीएम सप्लाई से भी मिलकर कहा कि गर्मी छुट्टी में हमलोगों से पीडीएस निगरानी, राशन कार्ड समेत अन्य कार्य कराया जा रहा है।

ये भी पढ़े…

मैट्रिक व इंटर की कॉपी जांच के लिए योगदान में कोताही बरतने वाले शिक्षकों पर गिरी गाज-60 शिक्षकों का वेतन बंद

जिलाध्यक्ष संजय कुमार, महासचिव नंदकिशोर सिंह, उपाध्यक्ष राजकुमार वर्मा, अशोक कुमार ने डीएसई से भेंट कर कहा है गर्मी छुट्टी में हमसे विद्यालय का काम कराया जा रहा है, जबकि हम शिक्षक वेकेशनल सर्विस के तहत आते हैं। इस कारण हमलोगों को गर्मी छुट्टी का उपभोग करते हैं। पहले एक जून से आठवीं कक्षा संचालित करने का आदेश था। अब क्लास संचालित करने पर रोक लगा दी गई है। कई स्कूलों को क्वारंटाइन सेंटर बना दिया है। ऐसे में शिक्षकों के लिए विद्यालय जाकर गैर शैक्षणिक कार्य किया जाना संभव नहीं है। इसलिए इस आदेश पर पुनर्विचार किया जाए।

Leave a Reply

Your email address will not be published.